मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोराना व लोकडाऊन को लेकर नियमित बैठक की।    जयपुर।


मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के विभिन्न जिलों में कोरोना संक्रमण की स्थिति की नियमित समीक्षा के दौरान जयपुर के रामगंज के साथ-साथ भीलवाड़ा, टोंक, चुरू, बीकानेर, झुंझुनु, जोधपुर, डूंगरपुर और दौसा जिलों में कोरोना के संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान और संक्रमित मरीजों की संख्या के बारे में जानकारी ली।    अधिकारियों ने बताया कि पूरे राज्य में संक्रमण की स्थिति आमतौर पर नियंत्रण में है और संदिग्ध जगहों पर संक्रमित लोगों की पहचान के लिए विशेष अभियान तेज गति से चलाए जा रहे हैं।
              जयपुर सहित प्रदेश के विभिन्न शहरी क्षेत्रों में राशन की आपूर्ति तथा भोजन  वितरण की स्थिति की समीक्षा की। बेसहारा और भोजन से वंचित लोगों तक राशन सामग्री अथवा पका हुआ भोजन पहुंचाने के लिए विशेष प्रयास किए जाएं। राज्य भर में चल रहे घर-घर स्वास्थ्य सर्वेक्षण को जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिए।
        .    बैठक में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा, मुख्य सचिव श्री डीबी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह श्री राजीव स्वरूप, अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री रोहित कुमार सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त श्री निरंजन आर्य, पुलिस महानिदेशक श्री भूपेन्द्र सिंह, खाद्य आपूर्ति सचिव श्री सिद्धार्थ महाजन, सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त श्री महेन्द्र सोनी, जिला कलेक्टर जयपुर श्री जोगाराम, जयपुर पुलिस आयुक्त श्री आनंद श्रीवास्तव एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र