मेरठ में बिजलीकर्मी की गोली मारकर हत्या

मेरठ,:: उत्तर प्रदेश में मेरठ के थाना गंगानगर क्षेत्र में बुधवार सुबह एक बिजली सुपरवाइजर की बाइक सवार दो बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी।


घटना के बाद बाइक सवार दोनों हमलावर फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।


थाना गंगानगर के पुलिस निरीक्षक बृजेश शर्मा ने बताया कि रजपुरा गांव निवासी रजत सिवाच (27) मंगल पांडे नगर स्थित बिजलीघर में संविदा कर्मचारी था। गंगानगर निवासी एक युवती भी इसी बिजलीघर में काम करती है। कई बार रजत युवती के साथ स्कूटी से आता-जाता था। आज सुबह भी वह युवती के साथ स्कूटी पर जा रहा था कि तभी एफआईटी के रास्ते पर पीछे से बाइक सवार दो युवक पहुंचे और ओवरटेक करते हुए उनकी स्कूटी रुकवाई। इस दौरान एक हमलावर ने रजत को गोली मार दी जिससे विद्युतकर्मी की मौके पर ही मौत हो गई।


मृतक रजपुरा के ग्राम प्रधान विपिन का चचेरा भाई था। ऐसे में पुलिस घटना के पीछे प्रधान चुनाव से संबंधित रंजिश की संभावना से इनकार नहीं कर रही है। दूसरी तरफ, प्रेम प्रसंग से भी मामले को जोड़कर देखा जा रहा है।


एएसपी अखिलेश भदौरिया ने कहा कि कई बिंदुओं से घटना की जांच की जा रही है। जल्द ही सारी चीजों का खुलासा कर दिया जाएगा। गंगानगर से दो युवकों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया गया है।


तहरीर के आधार पर मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है।


टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र