मस्जिद व मंदिरों के जिम्मेदारो की मदद करने पर विचार करना चाहिए।


            कोविड-19 के कारण जारी लोकडाऊन मे सरकारी दिशा निर्देशोनुसार सभी तरह के धार्मिक इबादत व पूजा स्थलो मे पूजा व इबादत के लिये आम लोगो का आना पूरी तरह बंद हो चुका है। उस हालात मे इमाम व पुजारी अपने स्तर पर सरकारी आदेशों की पालना करते हुये समय पर पूजा व इमाम द्वारा नमाज की अदायगी कर रहे है।
            लोकडाऊन के चलते मंदिरों मे उपलब्ध बिजली व पानी के अलावा अन्य जरुरत के लिये खर्चा तो पहले की तरह ही लग रहा है। एवं भक्तो के ना आने से आमदनी का जरीया कमजोर पड़ चुका है। तो क्षेत्र के जो भक्त पहले जिस तरह से मंदिरों मे दान चढाया करते थे उस तरह से ना सही पर अपनी हैसियत के मुताबिक जो जितना दान दे सकता है, उतना वहां तक पहुंचाने के लिए विचार जरुर करना चाहिए।
                  इसी तरह मस्जिद के इमाम की सैलेरी व रमजान का नजाराना देने का हक तो लोकडाऊन के बावजूद बनता ही है। पानी-बिजली व अन्य प्रकार के खर्चे भी पहले की तरह कायम है। अधीकांश मस्जिद मे जुम्मे के दिन नमाजियों से कुछ चंदे के रुप मे रकम जमा हो जाती थी। जिस चंदे की रकम से प्रबंध समिति मस्जिद के अखराजात को पूरा करने की कोशिश करते थे। लेकिन लोकडाऊन के चलते जुम्मे की नमाज के लिये आम लोगो का मस्जिद आना पूरी तरह बंद हो चुका है।
                 कुल मिलाकर यह है कि हर आदमी अपनी अख्लाकी जिम्मेदारी समझते हुये जो उनसे बन पाता है उतना दान-चंदा मस्जिद व मंदिर के प्रबंध समितियों तक हमेशा की तरह पहुंचाने पर विचार जरुर करना चाहिए।


Popular posts
लाल टापू के नाम से विख्यात रहे धोद विधानसभा क्षेत्र की पंचायत समिति मे भाजपा का प्रधान बन सकता है।
इमेज
एआईएमआईएम की आहट से राजस्थान कांग्रेस मे हलचल तेज। - सत्ता की बजाय संगठन मे मुस्लिम का प्रतिनिधित्व बढाने की चर्चा।
नारायण बारेठ को सूचना आयुक्त बनाने की मुख्यमंत्री गहलोत के फैसले की चारो तरफ तारीफ हो रही है।
इमेज
ग्रैटर हैदराबाद म्यूनिसिपल कारपोरेशन चुनाव मे टीआरएस को बडा नुकसान व भाजपा को बडा फायदा।
"हुनर हाट", "वोकल फॉर लोकल" थीम के साथ उत्तर प्रदेश के नुमाइश ग्राउंड, रामपुर में 18 से 27 दिसंबर, 2020 और शिल्प ग्राम, लखनऊ में 23 से 31 जनवरी 2021 को आयोजित होगा : मुख्तार अब्बास नकवी
इमेज