कुमारस्वामी के बेटे का विवाह सादगी से होगा

बेंगलुरू, :: कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने सोमवार को कहा कि कोविड-19 के प्रकोप के कारण उनके बेटे निखिल की शादी 17 अप्रैल को निकट पारिवारिक सदस्यों की मौजूदगी में सादगी से होगी।


निखिल की सगाई पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस विधायक एम कृष्णप्पा की पोती रेवती से हुई थी।


दोनों परिवारों ने रामनगर के जनपडा लोक के पास एक भव्य शादी समारोह करने का फैसला किया था और उसके लिए तैयारियां जोरों से चल रही थीं।


कुमारस्वामी ने कहा, ‘‘क्या यह (रामनगर में विवाह) ऐसी स्थिति में हो सकता है, हमने शादी की रस्में घर पर परिवार के 15-20 सदस्यों की उपस्थिति में पूरी करने का फैसला किया है।"


उन्होंने रामनगर में पत्रकारों से बात करते हुए कहा, ‘‘देखते हैं कि (भव्य कार्यक्रम के लिए) समय कब आता है, फिलहाल हमने 17 अप्रैल को इसे घर पर ही करने का फैसला किया है, यह एक शुभ दिन है, हम इसे स्थगित नहीं करना चाहते हैं। अन्य चीजों के बारे में भविष्य में देखेंगे।’’


निखिल की शादी रामनगर के पास 95 एकड़ भूमि पर करने की योजना बनायी गई थी जिसमें जिसमें पार्टी के लाखों कार्यकर्ता और शुभचिंतक शामिल होते। उसके बाद बेंगलुरु में भव्य रिसेप्शन आयोजित होना था।


निखिल ने कुछ कन्नड़ फिल्मों में अभिनय किया है।


जदएस संरक्षक एवं पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा के पोते ने पार्टी के गढ़ मांड्या से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ा था और भाजपा द्वारा समर्थित एक निर्दलीय उम्मीदवार सुमालता अंबरीश से हार गए थे।


इस बीच कुमारस्वामी ने कहा कि इस बारे में कोई स्पष्टीकरण नहीं है कि 14 अप्रैल को लॉकडाउन समाप्त होगा या संक्रमण के मामले बढ़ने के चलते यह जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि ऐसी खबरें हैं कि लॉकडाउन लगभग 16 जिलों में जारी रहेगा, जबकि यह अन्य जिलों से वापस ले लिया जाएगा।


उन्होंने कहा, ‘‘मेरी भी इस पर नजर है कि सरकार क्या कदम उठाएगी, यह आलोचना का समय नहीं है। यह समय सरकार को कुशलता से काम करने की सलाह देने का है।’’


उन्होंने सरकार से आग्रह किया कि वह चिकित्सकों, चिकित्सा कर्मियों को तुरंत व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) मुहैया कराये जो कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे हैं।


टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र