कोविड-19: वतन वापसी के इच्छुक भारतीयों के लिए यूएई में दूतावासों ने शुरू किया ऑनलाइन पंजीकरण

दुबई, :: संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) स्थित भारतीय दूतावासों ने कोरोना वायरस महामारी की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते वहां फंसे उन भारतीयों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण शुरू किया है जो वतन वापस जाना चाहते हैं।


‘गल्फ न्यूज’ के अनुसार अबूधाबी स्थित भारतीय दूतावास ने दुबई स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास के माध्यम से डेटा संग्रहण की बुधवार रात घोषणा की।


ट्विटर हैंडल ‘इंडिया इन दुबई’ ने बृहस्पतिवार को ट्वीट किया, ‘‘सूचित किया जाता है कि अबूधाबी स्थित भारतीय दूतावास और दुबई स्थित महावाणिज्य दूतावास ने उन भारतीयों के पंजीकरण के लिए डेटाबेस शुरू किया है जो कोविड-19 स्थिति में भारत वापस जाना चाहते हैं। ब्योरा दूतावास की वेबसाइट www.indianembassyuae.gov.in या वाणिज्य दूतावास की वेबसाइट www.cgidubai.gov.in के माध्यम से ‘रजिस्टर इन डेटाबेस ऑफ इंडियंस टू ट्रैवल बैक टू इंडिया अंडर कोविड-19 सिचुएशन’ लिंक पर जाकर विवरण डाले जा सकते हैं।’’


इसने ट्वीट किया कि इसे www.cgidubai.gov.in/covid_register लिंक के जरिए किया जा सकता है।


खबर में कहा गया कि दूतावास ने ट्वीट करने के कुछ मिनट बाद इसे ‘‘तकनीकी कारणों’’ का हवाला देकर हटा दिया। ऐसा प्रतीत होता है कि लोगों को पेज पर जाने में दिक्कत हो रही है।


इसमें कहा गया कि दुबई स्थित भारतीय महावाणिज्य दूतावास ने बृहस्पतिवार को लिंक को फिर से पोस्ट किया, और यह भी कहा कि ‘‘हाई ट्रैफिक’’ की वजह से पेज को लोड होने में कुछ समय लग सकता है।


अबूधाबी स्थित दूतावास ने पूर्व में स्पष्ट किया कि फॉर्म का उद्देश्य कोविड-19 स्थिति में भारत सरकार द्वारा विदेश से भारतीयों की वापसी के वास्ते योजना बनाए जाने के लिए केवल सूचना एकत्र करने का है।


इसने कहा कि परिवार के कई सदस्यों के फंसे होने पर प्रत्येक व्यक्ति को अलग-अलग फॉर्म भरना होगा। इसी तरह कंपनियों के लिए, प्रत्येक कर्मचारी को अलग-अलग फॉर्म भरना पड़ेगा।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र