सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोविड-19 व लोकडाऊन से उपजे हालात मे सुभाष महरिया बने जरुरतमंदों का सहारा।


सीकर।
               शेखावाटी जनपद का दिल कहलाने वाले सीकर की माटी की खासियत रही है कि यहां जब जब भी किसी तरह की कूदरती आफतो का पहाड़ टूटा है तब तब इस माटी मे जन्मा कोई ना कोई लाल जरुरतमंदों की मदद के लिये हिमालय की तरह आ खड़ा होकर आम-अ्वाम के दुख-तकलीफ का हिस्सेदार व मददगार बनकर आफतो के दंश को हलका करके आम अवाम का दिल जीत लेता है। कोराना-19 के प्रकोप को हल्का करने के लिये सरकार द्वारा लोकडाऊन की घोषणा करने पर अनेक गरीब-लाचार व दिहाड़ी मजदूरो के सामने जीवन बचाने के लिये पैट को दो रोटी देने का भंयकर संकट आ खड़ा होने पर कूदन गावं के ऐतिहासिक पृष्ठभूमि वाले महरिया खानदान के लाडले व पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया ने उस विकट परिस्थितियों मे भी एक क्षण गमाये जरुरतमंदों की मदद के लिये मोर्चा सम्भालते हुये अपने नेतृत्व मे संचालित सुधीर महरिया स्मृति संस्थान के बैनर तले प्रयाप्त खाद्य सामग्री के किट जरुरतमंदों तक पहुंचाने का जो काम शुरू करके उसको जारी रखे होने के सुखद अहसास उन जरुरतमंदों को सबसे अधिक हुवा होगा जीन तक उक्त खाद्य सामग्री के किट पहुंचे होगे।
               राजस्थान मे कोविड-19 को लेकर बाईस मार्च को लोकडाऊन की घोषणा होने के साथ ही अगले दिन से मजदूर-गरीब व दिहाड़ी मजदूरों के अलावा सीकर या सीकर के बाहर के प्रदेश के अन्य जिलो के साथ साथ अन्य प्रदेशों के लोगों के सीकर मे रहकर रोज कुआं खोदकर पानी पीने की कहावत की तरह रोज कमाकर खाने वालो के सामने अपने व परिवार के पेट की आग को बूझाने का संकट एकसाथ आया तो उनमे से अधिकांश लोगो के मानो आसमान से हाथ छूट गये। लोकडाऊन के अगले दिन से सुभाष महरिया द्वारा खाद्य सामग्री के किट जरुरतमंदों तक पहुंचने लगे तो राहत की खबरे आने लगी।सूत्र बताते है कि इसी बीच दिल्ली से एक बडे सिनीयर राजनीतिक लीडर का संदेश महरिया के पास आया कि उनके प्रदेश के बडी तादाद मे सीकर मे मोजूद लोगो के पास खाने के लिये कुछ नही है। उनका चूल्हा भी जल नही रहा। तो बताते है कि महरिया ने उन सेंकड़ो परिवारों को तूरंत प्रयाप्त खाद्य सामग्री पहुंचाकर उनका चूल्हा जलवाकर अपना इंसानी फर्ज निभाया।
               जानकारी अनुसार सुधीर महरिया स्मृति संस्थान के कार्यकर्ता लगातार जरुरतमंदों तक बीना रुके खाद्य सामग्री लगातार पहुंचा रहे है। कार्यकर्ताओं के मुताबिक वो तो अपने स्तर पर यह कार्य अंजाम देने मे लगे हुये है। साथ ही पच्चीस-तीस पार्षदों को उनकी जरूरत के हिसाब से अलग से दस दस खाद्य सामग्री के किट उपलब्ध करवाने के अतिरिक्त अनेक सोशल वर्कर व राजनेताओं को भी उनके क्षेत्र की आवश्यकता अनुसार किट उपलब्ध करवाये गये है। जिनमे मै भी अपने आपको शामिल पाता हु।
                      हालांकि सुधीर महरिया स्मृति संस्थान के अलावा भी अनेक संस्थाओं ने राहत के कार्य किये है लेकिन लोकडाऊन की घोषणा के अगले दिन से शुरु करके अबतक लगातार खाद्य सामग्री किट देने वाली संस्था मात्र सुधीर महरिया स्मृति संस्थान ही है। जो संस्था आगे भी इस क्रम को जारी रखने का कह रही है। खाद्य सामग्री की जानकारी रखने वालो का मानना है कि एक परिवार के लिये पंद्रह दिन के लिये आवश्यक खाद्य सामग्री व अन्य जरूरत की चीजो का महरिया द्वारा बना कर उपलब्ध करवाये जाने वाले किट वितरण की तादाद को देखकर अनुमान लगाया जा सकता है कि महरिया की निजी आय से अबतक 25-30 लाख रुपये आसानी से अबतक खर्च हो चुके होगे। प्रत्येक किट मे दस किलो आटा, दो तरह की दाल, तैल, चाय, चीनी, मसाला, साबुन, मास्क सहित अन्य सामग्री मोजूद होती है।
                कुल मिलाकर यह है कि कोविड-19 व उसके बचाव के लिये जारी लोकडाऊन से उपजे हालात मे अपनी निजी आय मे से लाखो रुपयो की खाद्य सामग्री जरुरतमंदों तक समय पर उपलब्ध करवाने वाले सीकर के लाल पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया की लगातार जारी कोशिशों की जीतनी तारीफ की जाये वो कम हांकी जायेगी। महरिया द्वारा संकट के हालत मे लोगो के साथ खड़ा होने से दुख के अहसास के सुखद अहसास मे तब्दील होने मे काफी मदद मिलना माना जा रहा है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका