कोविड-19 को लेकर सीकर जिले की जनता को विशेष सजगता व सावधानी बरतनी होगी।

सीकर।
          भारत के केरल राज्य मे तीस जनवरी को चीन से आये छात्र मे व राजस्थान मे दो मार्च को इटली के आये प्रयटकों मे पहली दफा कोराना वायरस के संक्रमित मरीज मिलने के बावजूद सीकर जिले की जमीन से अभी तक एक भी संक्रमित मरीज नही पाये जाने के बाद जिले वासियो का कर्तव्य बनता है कि वो अब विशेष सजगता व सावधानियां बरते हुये बाहर से हर आने वाले की सुचना पुलिस व चिकित्सा विभाग को दे। साथ ही संदिग्ध व्यक्ति को तूरंत जांच कराने को कहे ओर ओर वो जांच कराने मे आना कानी करे तो उसकी सूचना आम जिम्मेदार शहरी होने के कारण सम्बंधित विभाग को दी जाये।
             हालांकि सीकर के एक नागरिक के विदेश से आने पर जयपुर एयरपोर्ट पर ही जांघ मे कोराना वायरस संक्रमित मिलने पर उसके सीकर जिले की धरती पर कदम रखने से पहले ही जयपुर मे इलाज के लिये भर्ती करने का परिणाम यह हुवा कि उसके अलावा सीकर मे अन्य कोई भी संक्रमित मरीज नही पाया गया है। पुलिस व चिकित्सा विभाग की सक्रियता व सजगता के चलते कोराना अभी सीकर से दूर ही है। वही लोकडाऊन की पालना अधिकांश जनता स्वयं भी करती नजर आ रही
 है। जिले के सभी धार्मिक स्थल लोकडाऊन का पालन कर रहे है वही त्योहार व पर्व को एक जगह जमा होकर मनाने की बजाय सभी सोशल डिस्टेंस रखते हुये अपने अपने घर मनाते हुये कोराना वायरस को जिले की धरती से दूर रखे हुये है।
                 कुल मिलाकर यह है कि जिले के सभी लोगो को लोकडाऊन का पूरी तरह अमल करते हुये विशेष सजगता रखते हुये सदिग्ध व्यक्ति की सुचना प्रशासन को दे एवं बाहरी व्यक्ति को बीना किसी जांच के आने ना दे। अगर हमारी लापरवाही व चूक के काऋण एक भी संक्रमित मरीज सीकर मे पाया गया तो कर्फ्यू एवं महा कर्फ्यू का सामना हमे करना पड़ेगा। इसलिए हर सरकारी आदेश पर अमल व विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाईड लाईनो को अपनाते हुये लोकडाऊन मे रहकर सभी को कोविड-19 को मात देनी होगी।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
आसाम-बंगाल आम चुनावो के साथ राजस्थान के होने वाले चार उपचुनावो के बाद गहलोत सरकार गिराने की फिर कोशिश हो सकती है! - पायलट समर्थक प्रदेश भर मे किसान महापंचायते आयोजित करके अपना जनसमर्थन बढा रहे है।
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज