सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोरोना वायरस संक्रमण के बाद दम तोड़ने वाले पुलिस अधिकारी के परिवार को 50 लाख रुपए की अनुग्रह राशि

इंदौर, :: मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के बाद दम तोड़ने वाले 41 वर्षीय पुलिस अधिकारी के निधन पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को शोक जताया। उन्होंने दिवगंत अधिकारी के परिवार को 50 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और उनकी पत्नी को उप निरीक्षक के पद पर सरकारी नौकरी देने की घोषणा की।


मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर यह घोषणा की। उन्होंने कहा, "हमारी पुलिस टीम के कर्तव्यनिष्ठ सदस्य, पूर्व थाना प्रभारी और निरीक्षक ने कोरोना से जंग में कर्तव्य की बलिवेदी पर अपने प्राण न्योछावर कर दिये।" चौहान ने कहा, "इंदौर के अरविंदो अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था और (कोरोना वायरस संक्रमण के उपचार के बाद) हाल ही में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आयी थी। यह हमारे लिये एक अच्छी खबर थी। लेकिन शनिवार देर रात अचानक ही उनकी मृत्यु हो जाने का दुःखद समाचार मिला।" मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा, "मैं उनके चरणों में श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। संकट की इस घड़ी में पूरा प्रदेश दिवंगत निरीक्षक के परिवार के साथ खड़ा है। शोकाकुल परिवार को राज्य शासन की ओर से सुरक्षा कवच के रूप में 50 लाख रुपये की राशि और उनकी पत्नी को पुलिस विभाग में उप निरीक्षक के पद पर नियुक्ति दी जा रही है।" निरीक्षक की मौत के बाद पुलिस महकमे में शोक की लहर दौड़ गयी है। कई लोग उन्हें "कोविड-19 योद्धा" बताकर सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि दे रहे हैं।


पुलिस अधीक्षक महेशचंद्र जैन ने "पीटीआई-भाषा" को बताया कि दिवंगत पुलिस निरीक्षक कोविड-19 से संक्रमित होने से पहले शहर के जूनी इंदौर पुलिस थाने के प्रभारी के पद पर थे। जैन ने बताया, "चिकित्सकों की तमाम कोशिशों के बावजूद पुलिस निरीक्षक की जान नहीं बचायी जा सकी। उनके परिवार में पत्नी और दो बेटियां हैं।" इस बीच, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) प्रवीण जड़िया ने बताया, "पुलिस निरीक्षक पहली जांच में कोविड-19 से संक्रमित पाये गये थे और उन्हें करीब 20 दिन पहले अरविंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यह अलग बात है कि इलाज के बाद कोविड-19 के किसी मरीज को अस्पताल से छुट्टी देने से पहले करायी जाने वाली दो अन्य जांचों में वह कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त पाये गये थे।" उन्होंने बताया, "निजी अस्पताल के चिकित्सकों ने हालांकि संदेह जताया है कि पुलिस निरीक्षक की मौत का तात्कालिक कारण पल्मोनरी एम्बोलिज्म (धमनी में खून का थक्का जमने से जुड़ी समस्या) है। लेकिन इस बात की भी संभावना है कि उनमें पल्मोनरी एम्बोलिज्म की समस्या कोरोना वायरस संक्रमण के कारण ही उत्पन्न हुई हो।" सीएमएचओ ने बताया कि जिले में कोरोना वायरस से मौत के एक अन्य मामले में 70 वर्षीय महिला ने एक निजी अस्पताल में शुक्रवार को दम तोड़ दिया। पुलिस निरीक्षक और इस महिला की मौत के साथ ही जिले में इस संक्रमण के बाद दम तोड़ने वाले मरीजों की तादाद बढ़कर 49 पर पहुंच गयी है।


उन्होंने बताया," हमें शहर के एक पूर्व पार्षद की भी कोरोना वायरस से मौत की जानकारी मिली है। इसकी पुष्टि के लिये उनके मेडिकल दस्तावेजों की जांच की जा रही है।" सीएमएचओ ने बताया कि संशोधित आंकड़ों के मुताबिक जिले में इस महामारी के मरीजों की तादाद फिलहाल 890 है।


आंकड़ों की गणना के मुताबिक जिले में कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर रविवार सुबह तक की स्थिति में 5.50 प्रतिशत है। जिले में कोविड-19 के मरीजों की मृत्यु दर पिछले कई दिन से राष्ट्रीय औसत से कहीं ज्यादा बनी हुई है।


इंदौर में कोरोना वायरस के मरीज मिलने के बाद से प्रशासन ने 25 मार्च से शहरी सीमा में कर्फ्यू लगा रखा है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।