कोरोना वायरस पर जल्द आएगी गुजराती फिल्म

अहमदाबाद, ::  गुजरात के दो फिल्मकार कोरोना वायरस संक्रमितों की जिंदगियों से प्रेरित एक फिल्म बनाने जा रहे हैं, जिसमें लॉकडाउन के कारण लोगों और राज्य प्रणाली पर पड़े असर को भी दिखाया जाएगा।


निर्देशक महेश पटेल ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि एक नायक के बुराई के खिलाफ लड़ने की घिसी-पिटी कहानी की बजाय इस गुजराती फिल्म में भय, आशा, दृढ़ संकल्प और जीवन के कई अलग-अलग रंगों की कहानियां बयां की जाएंगी, जो कि महामारी के दौरान सामने आई।


पटेल और उनके व्यवसायिक साझेदार दीपक सोनी का सूरत में ‘केसर-भवानी फिल्म प्रोडक्शन’ है और इस बैनर तले ही फिल्म का निर्माण किया जाएगा।


फिल्म का बजट अभी तय नहीं किया गया है लेकिन पटेल ने इसकी पटकथा पर काम करना शुरू कर दिया है। फिल्म का नाम ‘कोरोना नो कहर’ होगा।


पटेल ने कहा, ‘‘ लोगों के घरों में कैद हो जाने से लेकर लॉकडाउन के कारण प्रवासियों के प्रदर्शन करने तक कोरोना वायरस के कारण हमारे आस-पास कई चीजें हो रही हैं। हम यह भी देख रहे हैं कि लोगों की जिंदगियां बचाने के लिए पुलिस कर्मियों और डॉक्टरों ने अपनी जिंदगी को खतरे में डाल रखा है। इसलिए ही हम दोनों ने इस विषय पर फिल्म बनाने का निर्णय किया।’’


सोनी ने बताया कि फिल्म की शूटिंग लॉकडाउन खत्म होने और चीजों के सामान्य होने के बाद शुरू की जाएगी।


सोनी ने कहा, ‘‘ हमने हालांकि फिल्म का ‘वर्किंग पोस्टर’ रिलीज कर दिया है और कुछ लोग भी फिल्म के साथ जुड़ गए हैं लेकिन अब भी कई चीजों पर काम जारी है। फिल्म में गुजरात के मुख्यमंत्री और राज्य के पुलिस महानिदेशक के किरदार भी होंगे क्योंकि उन्होंने इस स्थिति में सराहनीय काम किया है।’’


इससे पहले यह निर्माता-निर्देशक की जोड़ी 2016 में आरक्षण आंदोलन की अगुवाई करने वाले हार्दिक पटेल पर ‘पावर ऑफ पाटीदार’ शीर्षक से फिल्म बना चुकी है। हालांकि सेंसर बोर्ड से इसे अनुमति ना मिलने के कारण यह अभी तक रिलीज नहीं हुई है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।