कोराना वायरस मरीज मिलने के बाद नागोर जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव ने दी जानकारियां।


नागौर (राजस्थान)।
                    नागोर के गावं बासनी गावं बेलिमा में कोरोना  का मरीज पॉजिटिव मिलने के बाद धारा 144 सीआरपीसी के तहत आज दोपहर डेढ़ बजे से कर्फ्यू लगा दिया गया है। कर्फ्यू के दौरान इस क्षेत्र में कोई भी व्यक्ति स्वतंत्र रूप से भ्रमण नहीं कर सकेगा। यदि कोई व्यक्ति निषेधाज्ञा का उल्लघंन करता है तो उसके विरूद्ध  भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188, 269, 270 एवं राजस्थान एपेडेमिक डिजिज एक्ट 1957 एवं सु-संगत विधिक प्रावधानों तहत कार्रवाई की जाएगी। 
      गावं बासनी बेलिमा में कर्फ्यू  के दौरान आवश्यक सेवाओं के लिए पूर्व में जारी किए गए पास, परमिट, अनुमति को तुरन्त  प्रभाव से निरस्त कर दिया गया। उक्त सख्त निषेधाज्ञा प्रभावी रहने के दौरान आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति के लिए विशेष पास, परमिट, अनुमति जारी करने के लिए उपखण्ड मजिस्ट्रेट नागौर को अधिकृत किया गया है।
           ग्राम बासनी में प्रातःकालीन समय में विभागीय वाहन द्वारा दूग्ध आपूर्ति की व्यवस्था प्रबंध संचालक, नागौर दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड, नागौर तथा फल एवं सब्जी की व्यवस्था सचिव, कृषि उपज मंडी करेंगे। इसके अतिरिक्त ग्राम बासनी में महाप्रबंधक, दी नागौर उपभोक्ता होलसेल भण्डार लिमिटेड, नागौर द्वारा विभागीय मोबाइल वैन के माध्यम से ग्राम बासनी में आवश्यक दैनिक उपभोग, खाद्य/किराणा सामग्री की आपूर्ति किया जाना सुनिश्चित किया गया हैं।


टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - नये चुनाव के लिये सरकारी स्तर पर हलचल पर प्रशासक लगने के चांसेज अधिक बताये जा रहे है।
इमेज