खर्च मे कटोती कर, हम कर सकते जरुरतमंदों की मदद।


                 हालांकि कोविड-19 व लोकडाऊन के चलते भारत के अन्य हिस्सों की तरह राजस्थान प्रदेश मे भी सरकार के अलावा भामाशाहों के साथ साथ साधारण व्यक्तियों द्वारा भी अपने खर्च मे कटौती करके जरुरतमंदों की मदद करने का सीलसीला जारी है। जबकि हमारे सामाजिक व धार्मिक पर्व भी लोकडाऊन के मध्य मे आये लेकिन हमने हमारा कर्तव्य व देश के प्रति जिम्मेदारी निभाते हुये उन पर्वों को घर रहकर सादगी के साथ मनाया है।
                लोकडाऊन के कारण दिहाड़ी मजदूर व अन्य तरह के कामगारों सहित अनेक लोगो को इधर से उधर होन के साथ काफी लोगो के बेरोजगार होने से उनकी आय के स्त्रोत या तो बंद हो चुके या मंद पड़ चुके है। जिनको दो वक्त के भोजन का इंतजाम करने के लिये मदद की जरूरत होने लगीं है। 
                कुल मिलाकर यह है कि वेश्विक महामारी कोविड-19 के कारण जरुरतमंदों की मदद करने के लिये हर इंसान को अपने रमजान माह व ईद के अवसर पर कम से कम वो भी अतिआवश्यक जरुरियात की वस्तुओं की खरीद ही करने का तय करना चाहिए। ताकि हमारे इस कदम से जो बचत हो उस बचत से आम जरुरतमंदों की मदद करके वतन की खिदमत कर सकते है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
शमशेर खां की दांडी यात्रा के समर्थन मे आज प्रदेश के गावं-गाव से शहरो तक पदयात्रा निकाल कर उपखण्ड अधिकारी व जिला कलेक्टरस को ज्ञापन दिये गये।
चित्र