झुंझुनूं में चार दिन से कोई नया केस नहीं आया जबकि आज दो और पॉजीटिव केस हुए नगेटिव

झुंझुनूं में चार दिन से कोई नया केस नहीं आया जबकि आज दो और पॉजीटिव केस हुए नगेटिव - दोनों का जयपुर में चल रहा था इलाज, नेगेटिव होने वालों की संख्या हुई 35 अब जिले में बचे हैं सिर्फ 7 पॉजिटिव केस


झुंझुनूं। राजस्थान।
           जिला अब तेजी से कोरोना संक्रमण से मुक्त होने की तरफ बढ़ रहा है। पिछले चार दिनों से जिले का कोई भी नया पॉजिटिव केस सामने नहीं आया है। वहीं लगातार पॉजीटिव केस अब स्वस्थ हो रहे है।        सीएमएचओ डॉ. पीएस दूतड़ व डॉ. सीएल गुर्जर ने बताया कि बुधवार को भी जयपुर में इलाज के लिए भर्ती दो पॉजीटिव केस भी स्वस्थ हो गए है। उन्होंने बताया कि एसएमएस अस्पताल में भर्ती मंडावा के एक व्यक्ति के अलावा गुढ़ागौडज़ी की एक महिला भी अब पॉजीटिव से नगेटिव हो गई है। इसके बाद झुंझुनूं जिले में पॉजीटिव से नगेटिव हुए लोगों की संख्या 33 से बढ़कर 35 हो गई है। अब केवल सात लोग ही शेष है। जो पॉजीटिव है और उनका इलाज चल रहा है। इनमें पांच गुढ़ागौडज़ी तथा दो नवलगढ़ के है। यदि आंकड़ों की बात करें तो झुंझुनूं में 17 अप्रेल तक मिले 36 पॉजीटिव केस में से केवल एक युवक को छोड़ दें तो सभी 35 के 35 नगेटिव हो गए है। अब केवल 17 अप्रेल से पहले का एक युवक तथा 17 अप्रेल के बाद के छह पॉजीटिव केस ही भर्ती है। जिनका इलाज चल रहा है। बुधवार को पॉजीटिव से नगेटिव हुए दोनों ही लोगों को जयपुर के क्वारेंटाइन सेंटरों के लिए डिस्चार्ज किया गया है। जहां पर वे चिकित्सकों की देखरेख में होंगे। 
अब जयपुर एसएमएस में  केवल अब एक ही मरीज
बुधवार दो नए केसों के नगेटिव होने के बाद जयपुर एसएमएस अस्पताल में केवल नवलगढ़ की एक बुजूर्ग महिला ही शेष है। जो पॉजीटिव है और जिसका इलाज चल रहा है। वहीं छह पॉजीटिव केसों का इलाज बीडीके में चल रहा है।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
एआईएमआईएम के राजस्थान आने से पहले कांग्रेस नेताओं मे बोखलाहट। राजस्थान मीडिया मे आवेसी को लेकर बहस व लेख लिखने शुरु।
चित्र