सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जन नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तुम्हारी दूरदर्शिता व सजगता को मानना पड़ेगा।


जयपुर।
            कोराना वायरस के चलते खोफ मे आई भारत की जनता के बावजूद तेईस जनवरी तक संसद चल रही थी तब एक तरफ कोराना से संक्रमित मरीज की पार्टी मे शरीक होने वाला सांसद संसद भवन व राष्ट्रपति भवन तक जाकर आ रहा था। उसके पहले गहलोत ने बाईस मार्च को राजस्थान मे लोकडाऊन जारी करने के आदेश जारी कर दिये थे। दुसरी तरफ कुछ लोग जब थाली व ताली बजा रहे थे या बजाने की अपील कर रहे थे। वही दुसरी तरफ अशोक गहलोत हर सक्षम परिवार से अन्य दो परिवारों के लिये भोजन बनाकर जरुरतमंदों को देने की अपील कर रहे थे।
        सेनेटाईजेसन, मास्क, मेडिकल उपकरण व कोराना से बचाव के लिये साधनो व लोकडाऊन से परेशान लोगो की मदद करने के लिये गहलोत राजस्थान के विधायको के निधि विकास कोटे से जरूरत के हिसाब से चाहे जीतनी रकम खर्च करने की छूट देकर जनता को राहत देने की अपील करने के साथ साथ प्रदेश मे किसी को भी भूखा नही सोने देने का प्रण दोहरा रहे है। लोकडाऊन के कारण परेशान दिहाड़ी मजदूरों को बसो से फ्री लेजाकर उनके मूल प्रदेश की सीमा तक छोड़ने का बेहतरीन कार्य अंजाम दिया है। वहीं अपने घर जाने से राजस्थान मे बचे दिहाड़ी मजदूरों व गरीबो तक हर हाल व हर किमत पर हर तरह की मदद पहुंचाने मे पुरे सरकारी तंत्र को लगा दिया है। एवं इसके अलावा इस संकट से उभरने के लिये के सक्षम लोगो की मदद भी ली  जा रही है। वही दुसरी तरफ कुछ लोग एक निश्चित दिन नो मिनट मोमबत्ती, मोबाइल टार्च व दिया जलाने की बात कर रहे है।
             राज्यों मे कोराना से लड़ने के लिये अन्य उपकरण व सेनेटाईजेसन की कमी की बात तो छोड़ो। लेकिन टेस्ट किट व लेब की कमी भी अब सबको सताने लगी है। भाजपा व जदयू के नेतृत्व वाली बिहार सरकार ने पांच लाख टेस्ट किट की मांग की थी। पर उसको अब तक केवल चार हजार किट ही मिल पाये है। बिहार अकेले के हालात ही ऐसे नही है बल्कि लगभग सभी राज्यों के हालात कमोबेश हालात एक जैसे ही है। मुख्यमंत्री पूरे प्रदेश की जनता की चिकित्सा जांच (स्क्रीनिंग) करने मे लगे हुये है।
              कुल मिलाकर यह है कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार की कोराना वायरस से लड़ने व लोकडाऊन से उपजे हालात से आम जनता को उभारने की कोशिश को स्वयं मुख्यमंत्री की दूरदर्शिता का परिणाम ही माना जायेगा। गहलोत के फारमूले को अन्य राज्यों की सरकारों व केन्द्र की सरकार को अपनाने पर विचार करना चाहिए।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह