सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

घर लोट चुके मजदूरों व गरीबो को वापस लोटने की बजाय कुछ समय तक घर ही रहना चाहिए।


जयपुर।
              कोराना वायरस व लोकडाऊन के चलते फ्लैट व बंगलो मे आरामदायक जीवन जीने वालो मे से अधिकांश लोगो ने उनके यहां झाड़ू-पोंचा, साफ-सफाई व कपड़े धोने वालो के अलावा किचन मे फरमाईस अनुसार खाना बनाकर देने वाले मजदूर-गरीबो को एक मिनट मे उनके हाल मे जीने के लिये छोड़ने के बाद उन मजदूरों के सामने भूख से तड़फ तड़प कर मरने या फिर जगह छोड़कर गावं जाने के अलावा जब उन्हे कोई अन्य विकल्प नजर नही आया तो उन्होंने गावं साधन व पैदल जाना ही उचित समझा। भवन निर्माण ठेकेदार व उधोग संचालक ( फेक्ट्री मालिक) कार्यरत मजदूरों को उनके हाल मे छोड़ भागे। इसी बीच एक सुखद खबर यह जरूर आ रही थी कि किसान के खेत मे जो मजदूर बंटाईदार या मजदूरी का काम करते थे। उन सबको को किसानों ने शेल्टर व हर जरुरियात की चीजे उपलब्ध करने मे कोई खसर नही छोड़ी। तभी किसान के यहां काम करने वाले मजदूरों की भगदड़ देखने को नही मिली।
               अचानक हुये लोकडाऊन के कारण मजदूर व गरीबो को अनेक तरह के जो खट्टे-मिठ्ठे अनुभव हुये है, उन अनुभवों को जीवन भर याद रखकर आगे की रणनीति जरूर बनानी चाहिए।ताकि विपत्ति मे परेशान लोग अपनी परेशानी कम करने का आईडिया जरुर समय रहते भविष्य मे काम ले सके। कोराना-19 का प्रकोप एक न एक दिन खत्म जरूर होगा। लोकडाऊन भी खत्म होगा। उसके बाल मजदूरों-गरीबो आपकी याद जरूर इनको सतायेगी। उस वक्त आप कुछ दिन ओर घर रुकने का तय करलेगे या गावं मे ही जीवनयापन का साधन तलाश लोगो तो एक यह बडा कदम साबित हो सकता है।
           लोकडाऊन के बाद बने असमंजस के माहोल मे अपने अपने स्वामियों जजमानो व सेठ साहिबानो द्वारा अपने हाल पर छोड़ दिये जाने वाले मजदूरों--गरीबो धन्यवाद देना उन लोगो को जिनहोने आपके मुशीबत की घड़ी मे खाने को सामन दिया, पैदल सेंकड़ो किलोमीटर पैदल चलते समय रास्ते मे पानी पिलाया ओर जो कुछ बन पड़ा खाने को दिया। उन पुलिस वालो का भी शुक्रीया अदा करना जिन्होंने घर से पहले चिकित्सा जांच करवाने को मजबूर करके कोराना वायरस की चपेट से बचाया। साथ ही उन चिकित्सा कर्मियों को भी धन्यवाद देना जिन्होंने हर पल घर आने के सफर व घर पहुंचने के बाद भी पुरी जांच करके भला काम किया। साथ ही उन लोगो को भी जीवन मे याद रखना कि भूख से तड़फने की नोबत आने पर आपको भोजन का निवाला देने की भरसक कोशिशे की है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका