बिजली उपभोक्ताओं के लिए राहत: इस महीने औसत बिल मिलेगा

सीकर.
 कोरोना के चलते इस महीने उपभोक्ताओं को एक अनुमानित (एवरेज) बिजली बिल मिलेगा। कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को दूर रखने के लिए निगम ने मीटर रीडरों को को घर-घर जाकर मीटर रीडिंग लेने से साफ इंकार कर दिया हैं। ऐसे में सभी उपभोक्ताओं के औसत के आधार पर बिजली बिल जारी होंगे। निगम ने इस बार उपभोक्ताओं के लिए ऑनलाइन बिजली बिल जारी कर ऑनलाइन ही भुगतान करने की अपील की हैं। इस संबंध में निगम के अधीक्षण अभियंता नरेन्द्र गढ़वाल ने आदेश जारी कर दिए है। उपभोक्ताओं को बिल भुगतान के लिए सभी डिजीटल सुविधाएं दी गई हैं। विद्युत निगम के बिल भुगतान केन्द्र कोरोना वायरस के साए की वजह से आगामी आदेश तक बंद रहेंगे।
उपभोक्ताओं को मिलेगी राहत
बिजली निगम को लगातार बिजली की आपूर्ति भी सुनिश्चित करने को कहा है। साथ ही लोगों की बिजली आपूर्ति व सुरक्षा से जुड़ी शिकायतें को भी सुनने का निर्देश मिले है। इस निर्णय से उपभोक्ताओं व खास तौर से उन्हें बड़ी राहत मिलेगी जो घर से काम कर रहे हैं।
ऐसे कर सकते हैं भुगतान
उपभोक्ता को अपना बिजली बिल ऑनलाइन प्राप्त करने के लिए निगम की वेबसाइट के होम पेज पर उपलब्ध लिंक पर अपने ईमेल, फोन नंबर को अपने ‘के’ नंबर के साथ रजिस्टर करना होगा। उपभोक्ता बिल ऑनलाइन जमा भी करा सकते है। इसकी सुविधा भी निगम की वेबसाइट के होम पेज पर दी गई है। इसके अलावा उपभोक्ता अपना बिल मोबाइल ऐप, ऊर्जा सारथी, पेटीएम, गूगल पे, ई-मित्र, फोन पे, भीम ऐप, एमेजन ऐप और सभी प्रमुख बैकों की वेबसाइट पर उपलब्ध एप के माध्यम से भी जमा करा सकते हैं।
इनका कहना है
बिजली निगम मीटिर रीडिंग के आधार पर बिजली बिल तैयार करता है। रीडिंग के लिए मीटर रीडर डोर -टू-डोर जाते हैं। लेकिन कोरोना वायरस की वजह इस बार औसत के आधार पर बिजली बिल जारी किए जाएंगे। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए है। उपभोक्ता ऑनलाइन बिल जमा करा सकते है।
एनएस गढ़वाल, अधीक्षण अभियंता सीकर।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
आसाम-बंगाल आम चुनावो के साथ राजस्थान के होने वाले चार उपचुनावो के बाद गहलोत सरकार गिराने की फिर कोशिश हो सकती है! - पायलट समर्थक प्रदेश भर मे किसान महापंचायते आयोजित करके अपना जनसमर्थन बढा रहे है।
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज