आरबीआई के कदमों से नकदी प्रवाह में वृद्धि होगी : मोदी

नयी दिल्ली, :: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) द्वारा घोषित कदमों से भारत में नकदी प्रवाह में वृद्धि होगी और रिण आपूर्ति बढ़ेगी ।


प्रधानमंत्री मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘ इन कदमों से हमारे छोटे व्यवसायों, किसानों, एमएसएमई और गरीबों को मदद मिलेगी । इसके अलावा अग्रिम सीमा बढ़ाये जाने से राज्यों को लाभ होगा । ’’ गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 महामारी के चलते रिजर्व बैंक आर्थिक हालात पर लगातार नजर रखे हुये है और वह आर्थिक तंत्र में पर्याप्त नकदी बनाये रखने के लिये हरसंभव कदम उठायेगा।


 


केन्द्रीय बैंक ने इसके साथ ही रिवर्स रेपो दर में 0.25 प्रतिशत कटौती कर उसे 3.75 प्रतिशत कर दिया। हालांकि, रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया गया है।


इसके साथ ही दास ने राज्यों पर खर्च के बढ़ते दबाव को देखते हुये उनके लिये अग्रिम की सुविधा को 60 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है। अभी तक इसके लिए 30 प्रतिशत की सीमा थी। इससे राज्यों को इस कठिन समय में संसाधन उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी।


केंद्रीय बैंक लक्षित दीर्घकालिक रेपो परिचालन (टीएलटीआरओ) के जरिए अतिरिक्त 50,000 करोड़ रुपये की राशि उपलब्ध करायेगा। यह काम किस्तों में किया जायेगा।


इसके अलावा दास ने नाबार्ड, नेशनल हाउसिंग बैंक और सिडबी जैसे वित्तीय संस्थानों के पुन: वित्त पोषण के लिए 50,000 करोड़ रुपये की सहायता देने की भी घोषणा की। 


टिप्पणियां
Popular posts
उर्दू व मदरसा पैराटीचर्स की मांगो सहित अन्य महत्वपूर्ण मांगों को लेकर 18-जनवरी को उर्दू शिक्षक संघ मुख्यमंत्री गहलोत का घेराव किया जायेगा।
इमेज
राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।
इमेज
जयपुर सम्भाग संगठन प्रभारी विधायक गोविन्द मेघवाल ने आज झूंझुनू एवं सीकर जिलें के कुल 15 नगरपालिकाओं के निकाय चुनाव के कांग्रेस पार्टी के सिम्बल वितरित किये। बीकानेर वरिष्ठ कांग्रेस नेता हाजी सलीम सोढ़ा भी मेघवाल के साथ रहे।
इमेज
पड़ोसी निकला SDM की बहन का हत्यारा:घर में अकेली रह रही सरकारी टीचर की हाथ-पैर बांधकर गला घोंटकर हत्या, लूट के इरादे से घर में घुसा था
इमेज
टोंक के बाद सीकर दौरे पर आये पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के स्वागत समारोह व सभा मे भारी भीड़ उमड़ने से राजनीतिक हलचल बढी।
इमेज