सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यूरोप, अमेरिका में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा बढ़ा

मैड्रिड, ::  यूरोप में कोरोना वायरस के मृतकों का आंकड़ा शनिवार को 20,000 के आस- पास पहुंच गया था जहां इटली और स्पेन ने एक दिन में 800 से ज्यादा लोगों की जान जाने की जानकारी दी। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश के सर्वाधिक प्रभावित न्यूयॉर्क क्षेत्र में लॉकडाउन लागू करने की संभावना से इनकार कर दिया।


विश्व की तकरीबन एक तिहाई आबादी बंद का सामना कर रही है जहां वायरस एक समाज के सभी पहलुओं पर विध्वंसक असर डाल रहा है : लाखों नौकरियां चली गई, स्वास्थ्य क्षेत्र पर अत्यधिक बोझ बढ़ गया है और देशों की अर्थव्यवस्था हिल गई है।


दुनिया भर में वायरस से मरने वालों की संख्या 30,000 से अधिक हो गई है और कुछ देशों के अधिकारियों का कहना है कि आगे और बुरी तस्वीर सामने आ सकती है।


हालांकि चीन का वुहान शहर जहां पिछले साल यह वायरस सबसे पहले ऊभरा था, वहां हालात कुछ सामान्य हुए हैं और दो महीने तक 1.1 करोड़ लोगों को लगभग घरों के भीतर कैद करने के बाद अब शहर आंशिक रूप से आवाजाही के लिए खोला जा रहा है।


ट्रंप ने शनिवार देर रात फैसला किया कि वह न्यूयॉर्क और उसके पड़ोसी राज्यों में बंद लागू नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि इसकी जरूरत नहीं और यात्रा परामर्श से काम चल जाएगा।


जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में दुनिया भर के मुकाबले सबसे ज्यादा 1,24,000 लोग कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में हैं।


मृतकों में शिकागो का एक नवजात भी शामिल था जो वैश्विक महामारी के कारण एक साल से भी कम उम्र के बच्चे की कोविड-19 से मौत का दुर्लभ मामला है।


वहीं जेल ब्यूरो ने जेल में बंद एक कैदी की कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मौत होने की खबर दी है। किसी कैदी की वायरस से मौत का यह पहला मामला है।


अमेरिका के कई मेडिकल स्कूल वरिष्ठ छात्रों को जल्दी स्नातक डिग्री देने पर विचार कर रहे हैं ताकि उन्हें अत्यधिक बोझ झेल रही स्वास्थ्य सेवा प्रणाली में प्रवेश मिल सके और वे कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के मद्देनजर चिकित्सीय पेशेवरों की बढ़ती मांग को पूरा कर सके।


यूरोपीय राष्ट्र प्रति व्यक्ति के हिसाब से अमेरिका से ज्यादा प्रभावित हैं जहां 20,000 मौतें हुईं हैं और इसमें से आधी मौत सर्वाधिक प्रभावित इटली में हुई हैं।


कोरोना वायरस मृतकों के मामले में स्पेन दूसरे नंबर पर हैं जहां शनिवार को 832 मौतों के बाद मृतकों की कुल संख्या 5,812 हो गई।


मैड्रिड ने सभी गैर जरूरी गतिविधियों पर रोक लगाकर राष्ट्रव्यापी बंद को और सख्त कर दिया है हालांकि अधिकारियों का कहना है कि देश में महामारी चरम पर है।


रूस में वायरस के मामले तुलनात्मक रूप से कम होने के बावजूद देश ने कहा कि सोमवार को वह अपनी सीमाएं बंद कर देगा।


जॉन्स हॉपकिन्स ट्रैकर के मुताबिक दुनिया भर में वायरस का प्रकोप फैलने के बाद से 6,64,000 मामले आधिकारिक रूप से सामने आए हैं।


जांच करने के तरीकों में भिन्नता और कुछ देशों में पर्याप्त जांच सुविधा में देरी का मतलब है कि असल संख्या इससे कहीं अधिक हो सकती है।


फ्रांस जहां करीब 2,000 लोगों की जान जा चुकी है, वहां के प्रधानमंत्री एडवर्ड फिलिप ने कहा कि “युद्ध” अभी शुरू ही हुआ है।


उन्होंने कहा कि अप्रैल के शुरुआती दो हफ्ते पिछले दो हफ्तों से ज्यादा मुश्किल रहने वाले हैं।


ब्रिटेन में शनिवार को जानलेवा वायरस से मरने वालों की संख्या 1,000 के पार चली गई जबकि बेल्जियम में 353 मौत के साथ ऐसे मामलों में अचानक वृद्धि हुई।


इसके अलावा ईरान में 139 और मौत की खबर मिली और भारत ने कई गांवों को सील कर दिया जहां कोरोना वायरस से संक्रमित एक गुरु गए थे। इस गुरू को संभावित ‘‘महा प्रसारक’’ के तौर पर देखा जा रहा है।


बांग्लादेश की सेना ने कहा है कि वह सामाजिक दूरी का नियम लागू करने के लिए कोविड-19 रोधी अभियान तब तक चलाना जारी रखेगी जब तक कि सरकार उसे लौटने का आदेश नहीं देती।


श्रीलंका में कोरोना वायरस से पहले व्यक्ति की मौत का मामला सामने आया है। कोलंबो के संक्रामक रोग अस्पताल में 65 वर्षीय बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया।


स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक अनिल जयसिंहे ने बताया कि मृतक उच्च रक्तचाप और मधुमेह से पीड़िता था।


एक ओर जहां अमीर देश इस संकट से संघर्ष कर रहे हैं, सहायता समूहों ने चेताया है कि कम आय वाले देश या सीरिया और यमन जैसे युद्धग्रस्त देशों में मृतक संख्या लाखों हो सकती है जिनका स्वास्थ्य तंत्र चरमराया हुआ है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह