येस बैंक संकट से एनबीएफसी के समक्ष आ सकते हैं वित्तपोषण के नये संकट: फिच

नयी दिल्ली,::  रिजर्व बैंक के येस बैंक का नियंत्रण अपने हाथों में लेने के बाद देश के गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को वित्तपोषण तथा तरलता की उपलब्धता के मोर्चे पर नये सिरे से चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी फिच रेटिंग ने बुधवार को यह आशंका व्यक्त की।


एजेंसी ने कहा, ‘‘आर्थिक अनिश्चितता के मौजूदा दौर में इसके कारण देश की वित्तीय प्रणाली के समक्ष ऋण की उपलब्धता संकुचित होगी।’’


एजेंसी ने कहा कि रिजर्व बैंक ने येस बैंक का नियंत्रण अपने हाथों में ऐसे समय लिया है जब कोरोनावायरस के संक्रमण का भारतीय अर्थव्यवस्था पर असर दिखने लगा है। इससे एनबीएफआई की संपत्ति की गुणवत्ता तथा आर्थिक वृद्धि लेकर जोखिम और बढ़ गया है।


रिजर्व बैंक ने पिछले सप्ताह येस बैंक का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया।


टिप्पणियां
Popular posts
इंशाअल्लाह सीकर से सर सैयद अहमद खां वाहिद चोहान जल्द स्वस्थ होकर अस्पताल से हमारे मध्य लोटकर फिर महिला शिक्षा को ऊंचाई देगे।
इमेज
राजस्थान मे ब्यूरोक्रेसी मे बडा फेरबदल -- सड़सठ भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के तबादले। - जाकीर हुसैन को श्रीगंगानगर जिला कलेक्टर के पद पर लगाया।
इमेज
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
शेखावाटी जनपद के मुस्लिम समुदाय मे बहती अलग अलग धाराऐ युवाओं को किधर ले जायेगी!
इमेज
मेडिकल व इंजीनियरिंग की प्रतियोगिता परीक्षा की कोचिंग करने वालो का आनलाइन डाटा तैयार किया जायेगा।
इमेज