सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उप्र के बारे में लोगों की धारणा बदलने में सफल रहे, तीन साल में राज्य को विकास की ओर ले गए : योगी

लखनऊ, :: उत्तर प्रदेश में लगातार तीन साल तक भाजपा का पहला मुख्यमंत्री बनने का रिकॉर्ड बनाने वाले योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि उनकी सरकार ने राज्य के बारे में लोगों की धारणा बदलने में सफलता पाई है और इसे विकास, विश्वास और सुशासन की ओर ले गई है।


उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून का राज हो इसके बारे स्पष्ट संदेश देने के लिए जो कार्य शुरू किये गए थे उसके परिणाम भी आने लगे हैं। पिछले तीन वर्ष के दौरान प्रदेश में एक भी दंगा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि कानून के राज के कारण ही डकैती के मामलों में साठ फीसद की कमी आई है। लूट के मामलों में 47 फीसद की कमी, हत्या के मामलों में 21 फीसद की कमी, बलवा के मामले 27 फीसद कम हुए और दुष्कर्म के मामले 18 फीसद कम हुए हैं। हमने पुलिस के आधुनिकीकरण की दिशा में कार्य किये हैं। एक लाख 37 हजार से अधिक पुलिसकर्मी भर्ती किए गए हैं।


उन्होंने कहा कि प्रदेश में लोकसभा चुनाव एक लाख 63 हजार बूथों पर बिना किसी हिंसा के सम्पन्न होना भी एक बड़ी उपलब्धि रही।


उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक मूल्यों और आदर्शों पर आम जन का विश्वास समाप्त हो रहा था उसे बहाल करते हुए उसे सुशासन की तरफ ले जाने में सफलता पाई है। कानून व्यवस्था को बहाल करने, पटरी से उतर चुके विकास कार्यों को बहाल करते हुये सुशासन के घोषित लक्ष्यों को पूरा करने में सफलता प्राप्त की है। इन तीन वर्षों में प्रदेश के सामने जो चुनौतियां थीं, उन्होंने ही हमें जूझने की प्रेरणा दी। इसी का परिणाम है कि यूपी पूरे देश में नए प्रतिमान स्थापित कर रहा है।


उप्र सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर योगी आदित्यनाथ ने लोकभवन में बुधवार को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा कि 'पिछले तीन वर्षों में भाजपा सरकार ने लोगों की धारणा बदली है, हम राज्य को प्रगति की ओर ले गये हैं। प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी की प्रेरणा हमारा संबल बनी रही ।'


करीब 50 मिनट तक चली प्रेस कांफ्रेंस के बाद योगी ने 'सुशासन के 3 वर्ष' पुस्तक का विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने प्रेस कांफ्रेस शुरू होने से पहले कोरोना वायरस के ऐहतियातन थर्मल स्क्रीनिंग (शररीर के तापमान की जांच) कराई। उनके अलावा सभी अधिकारियों और मंत्रियों की भी थर्मल स्क्रीनिंग की गयी।


मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 के पहले केंद्र की योजनाओं को लागू करने में उत्तर प्रदेश की गिनती कहीं नहीं होती थी, हमारी सरकार की टीम वर्क का परिणाम है कि आज उत्तर प्रदेश इन्हें लागू करने में देश में नंबर एक पर है। इसमें प्रधानमंत्री आवास योजना, आयुष्मान भारत, स्वच्छ भारत मिशन, सौभाग्य योजना, उज्जवला योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना शामिल हैं।


आधारभूत ढांचे में सुधार की दिशा में अपनी सरकार की ओर से किये गए कार्यों का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का चालीस फीसद कार्य पूरा हो चुका है। इस वर्ष के अंत तक शुरू हो जाएगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे भी कार्य शुरू हो गया है। अगले वर्ष के अंत तक उसे भी जनता के लिए खोलेंगे। मेरठ को प्रयागराज से जोड़ने के लिए गंगा एक्सप्रेस-वे भी शुरू हो रहा है। उन्होंने कहा कि 2017 में प्रदेश का एक भी शहर मेट्रो के साथ नहीं जुड़ा था। आज प्रदेश के चार शहर मेट्रो के साथ जुड़े हैं। कानपुर और आगरा में मेट्रो का कार्य शुरू हो गया है। दिल्ली से मेरठ के बीच रैपिड ट्रेन चलेगी।’’


उन्होंने कहा कि प्रदेश में सिर्फ दो से तीन एयरपोर्ट चल रहे थे, जबकि आज सात एयरपोर्ट संचालित हैं। 11 नए एयरपोर्ट बनाने पर काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के जेवर एयरपोर्ट को दुनिया की सौ सर्वश्रेष्ठ परियोजनाओं में शामिल कराने में सफलता मिली है। उन्होंने कहा कि ये विकास कार्य इस बात के प्रमाण हैं कि सोच बदली है। हमने जनविश्वास की बहाली की है। इसके कारण हम प्रदेश को विकास और विश्वास के एक नए दौर में ले जाने में सफलता प्रात की है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि आज प्रदेश के सभी जिलों में बिना भेदभाव के विद्युत आपूर्ति लोगों तक पहुंच रही है। सौभाग्य योजना में 1 करोड़ 24 लाख लोगों को निशुल्क बिजली कनेक्शन दिया गया। हमने 1 लाख 67 हजार गांवों तक बिजली पहुंचाई। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 30 लाख लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर दिलाया गया। 2 करोड़ 61 लाख लोगों को शौचालय दिया गया।


स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में अपनी सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना में 5 लाख लोगों को स्वास्थ्य बीमा का लाभ पहुंचाने का काम किया गया है। एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस सभी जिलों में पहुंचाई गई।


उन्होंने कहा, ‘‘1947 से 2017 तक 12 मेडिकल कालेज बने थे अब मेडिकल कालेज की लम्बी श्रृंखला तैयार की गई है। तीन वर्ष के दौरान 30 नए मेडिकल कॉलेज बनाने जा रही है, जिनमें सात में पिछले वर्ष प्रवेश शुरू हो गए। आठ में इस सत्र से प्रवेश शुरू हो रहा है। प्रदेश में 14 नए मेडिकल कालेज अगले सत्र में शुरू किए जा रहे हैं।’’


मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रदेश में शिक्षा के क्षेत्र में भी व्यापक बदलाव हुआ है। 50 लाख बच्चे बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में बढ़े हैं। 92 हजार स्कूलों का कायाकल्प हुआ है। माध्यमिक शिक्षा में आजादी के बाद जितने शासकीय इंटर कॉलेज नहीं बने थे, 3 साल में 193 कॉलेज बने हैं। पूरे प्रदेश में नकल विहीन परीक्षा हुई है। उच्च शिक्षा में भी प्रदेश ने नई छलांग लगाई है। प्रदेश में पहले 27 निजी विश्वविद्यालय थे। हमारी सरकार एक साथ 28 निजी विश्वविद्यालय बनाने के साथ ही 8 नए राज्य विश्वविद्यालय बना रही है।


उन्होंने कहा कि कौशल विकास केन्द्र उद्योगों से जुड़ेंगे। पॉलिटेक्निक व इंजीनियरिंग कॉलेज के युवाओं को अनिवार्य रूप से उद्यम से जोड़ेंगे। मुख्यमंत्री अप्रेंटिस योजना के तहत युवाओं को 2,500 रुपये प्रति माह देंगे। पहले साल में 1 लाख युवाओं का लक्ष्य रखा गया है। युवा हब के लिए 1200 करोड़ रुपये की धनराशि पहले ही जारी की जा चुकी है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों ने 29 चीनी मिलें बंद कर दी थीं। जब हम आए तो प्रदेश में 116 मिली थीं, आज हम 121 चीनी मिलें चल रहा रहे हैं। गन्ने से इथेनॉल बनाने की प्रक्रिया में आगे बढ़ रहे हैं। उत्तर प्रदेश गन्ना व चीनी उत्पादन के साथ इथेनॉल उत्पादन में भी अग्रणी होगा। उन्होंने कहा कि 46 वर्षों से लंबित बाण सागर परियोजना को हमारी सरकार ने पूर्ण कराया है। सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना, मध्य गंगा राष्ट्रीय परियोजना और अर्जुन सहायक परियोजना जैसी डेढ़ दर्जन से ज्यादा सिंचाई परियोजनाएं दशकों से लंबित पड़ी हुई थीं। हमारी सरकार ने इसमें कुछ परियोजनाओं को पूर्ण कर लिया है, बाकी बची परियोजनाओं को अगले वित्तीय वर्ष तक पूर्ण कर लेंगे।


उन्होंने कहा कि प्रदेश के अंदर किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य से ज्यादा कीमत देने का कार्य सरकार कर रही है। हमने भंडारण की क्षमता को बढ़ाया है। इसके साथ ही पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम को भी सुधारने का कार्य किया है।


उन्होंने बताया कि पुलिस व फॉरेंसिक यूनिवर्सिटी बनाने की दिशा में कार्यवाही आगे बढ़ाई गई है। हम हर रेंज में साइबर थाना और फॉरेंसिक लैब बनाने जा रहे हैं।


मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रथम एवं द्वितीय ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी व अन्य माध्यमों से लगभग तीन लाख करोड़ रुपये का निवेश आने से प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से 33 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिला है। इसके साथ ही तीन लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दी गई है। जिनको लेकर कोई शिकायत सामने नहीं आई है।


मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता, उपाय व बचाव के दृष्टिगत युद्ध स्तर पर कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इसके कारण सभी सार्वजनिक कार्यक्रम स्थगित कर दिए गए हैं। स्थगित कार्यक्रमों को अप्रैल के प्रथम सप्ताह में लेकर जाएंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के दुष्प्रभाव को देखते हुए दिहाड़ी मजदूरों और रोज कामने-खाने वाले लोगों के भरण पोषण की व्यवस्था सरकार करेगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क