सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उप मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस के आसन्न संकट को देखते हुए प्रदेश के समस्त बच्चों एवं अभिभावकों से कोरोना वायरस से बचाव हेतु की अपील

लखनऊ :: उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कोरोना वायरस के आसन्न संकट को देखते हुए प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे बीमारी से बचाव के लिए सुरक्षा के सभी उपायो का कडाई से अनुपालन करें। उन्होंने कहा है कि केन्द्र व राज्य सरकार अपने स्तर से बीमारी से निपटने के लिए हर संभव उपाय कर रही है। इन उपायों को लागू करके कोरोना जैसी महामारी पर नियंत्रण के लिए जन सहयोग बेहद आवयश्क है।
            उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा अपनी में कहा कि कोरोना से जीतना सबसे आसान भी है और सबसे कठिन भीए घर बैठ गये तो जीत गये और बाहर निकल गए तो हार गये। शायद दुनिया के इतिहास में ये पहला ऐसा युद्ध होगा जिसे घर बैठकर जीता जा सकता है।
         डा शर्मा ने विशेष रूप से बच्चों और अभिभवकों से बचाव के उपायों के प्रति जागरूक रहने  को कहा है। उनका कहना है कि संक्रमण के इस दौर में सरकार के निर्देशों का पालन करना हर प्रदेशवासी का कर्तव्य है। उन्होंने कहा कि इस बीमारी से बचाव का उपाय सोशल डिस्टेंसिंग व हाथ को समय समय पर साबुन से धोना है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इन उपायों की शुरुवात जनता कफ्र्यू से की थी जिसे जनता का भरपूर समर्थन मिला था। इसके बाद प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में ही राज्य सरकार ने आगे बढते हुए प्रदेश के कुछ जिलों में लॅाकडाउन की घोषणा की है जिससे कि लोग अपने घरों में रहें व संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। इस समय में घर पर रहकर केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा जारी निर्देशों का पालन राष्ट्र सेवा से कम नहीं है। स्वस्थ राष्ट्र  व स्वस्थ नागरिक के उद्देश्य को हासिल करने के लिए यह सबसे अहम है। इसलिए लाक डाउन को पूरी गंभीरता से  लिया जाना चाहिए। सभी लोग अपने अपने  घर के अंदर रहें और अपने आपको तथा अपने परिवार को बचाएं। इस अवधि में घर के बडे बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। उन्होंने  विशेष रूप से प्रदेश के छात्र छात्राओं से कहा यह समय राष्ट्र के प्रति बडी जिम्मेदारी निभाने का है इसलिए वे बडों को आदर सहित बार बार इस बीमारी से बचाव के  बारे में याद दिलाएं व उनसे इनके अनुपालन का अनुरोध भी करें।  उन्होंने सभी  लोगों से  


 


अनुरोध किया है कि निर्देशोंए नियमों और कानूनों का पालन करें और इस महामारी के विरुद्ध लड़ाई में सरकार के साथ मिलकर काम करें। डॉ दिनेश शर्मा ने अभिभावकों एवं बच्चों से अपील की है कि वैश्विक महामारी के खिलाफ  देश की लड़ाई में प्रदेश को भी पूरा सहयोग देना है।          
        डॉ० शर्मा ने कहा है कि सभी लोग अपने घरों में रहे। उन्होंने अपील की है कि अनावश्यक रूप से बाहर व सार्वजनिक स्थलों पर ना निकले। उन्होंने बच्चों से अपील की है कि घर पर रहकर अपनेण्अपने पाठ्यक्रमों को पूरा  करने के साथ ही रचनात्मकता के विकास के लिए कार्य करें। इस समय का सदुपयोग महापुरषों  की जीवनी ए राष्ट्रनिर्माण आदि से  सम्बन्धित पुस्तकों को पढकर ज्ञान को बढाने में किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि  प्रशासनए पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग आपकी सेवा के लिए पूरी तत्परता से कार्य कर रहा है। उन्होंने छात्रण्छात्राओं तथा  उनके अभिभावकों तथा समस्त प्रदेशवासियों से अपील की है कि देश एवं  प्रदेश की जनता के स्वस्थ और सुरक्षित भविष्य के लिए अपना सहयोग दें।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि