सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पंड्या की वापसी से संतुलित हुई भारतीय टीम, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नई शुरुआत करने उतरेगी

धर्मशाला, :: हार्दिक पंड्या की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बहुप्रतीक्षित वापसी से संतुलित हुई भारतीय टीम गुरुवार से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुरू हो रही तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला में न्यूजीलैंड दौरे की निराशा को पीछा छोड़ना चाहेगी जहां इस प्रारूप में उसे क्लीनस्वीप का सामना करना पड़ा था।


नोवेल कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे और बारिश की आशंका के बीच शुरू हो रही इस श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में पंड्या की वापसी से कप्तान विराट कोहली को बेहतर विकल्प मिलेंगे। भारतीय टीम पिछली श्रृंखला में न्यूजीलैंड के खिलाफ 0-3 की करारी शिकस्त से उबरने की कोशिश भी करेगी।


पंड्या ने पिछला एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच मैनचेस्टर में न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व कप सेमीफाइनल के रूप में खेला था और उनका पिछला अंतरराष्ट्रीय मैच पिछले साल सितंबर में बेंगलुरू में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी20 मुकाबला था।


पंड्या ने डीवाई पाटिल कारपोरेट कप में गेंद और बल्ले से शानदार प्रदर्शन करते हुए राष्ट्रीय टीम में वापसी की है। कप्तान कोहली और कोच रवि शास्त्री स्पष्ट कर चुके हैं कि इस साल होने वाले टी20 विश्व कप को देखते हुए एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुकाबले उनके लिए प्राथमिकता नहीं है लेकिन टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका की अनुभवहीन टीम के खिलाफ एक और श्रृंखला गंवाने की स्थिति में नहीं है जिसने स्वदेश में आस्ट्रेलिया को 3-0 से हराया।


भारतीय टीम लगातार पांच अंतरराष्ट्रीय मैच (दो टेस्ट भी शामिल) हार चुकी है और कप्तान कोहली भी खराब फार्म से जूझ रहे हैं। कोहली न्यूजीलैंड के खिलाफ सिर्फ 75 रन बना पाए और अपने आलोचकों को जवाब देने के लिए बेताब होंगे जो मौजूदा कैलेंडर वर्ष में एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की अधिक अहमियत नहीं होने के उनके बयान पर सवाल उठा रहे हैं।


पंड्या के अलावा फिट हो चुके सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (कंधे की चोट) और तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (स्पोर्ट्स हर्निया) की वापसी से कागज पर भारत की टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ जीत की प्रबल दावेदार है। मेहमान टीम के पास हालांकि क्विंटन डिकाक, फाफ डु प्लेसिस और डेविड मिलर जैसे अनुभवी खिलाड़ी मौजूदा हैं।


धवन, भुवनेश्वर और पंड्या का अंतिम एकादश में खेलना लगभग तय है जबकि केदार जाधव के बाहर होने से मनीष पांडे को छठे नंबर पर अधिक मौके मिल सकते हैं।


रोहित पिंडली की चोट से उबरने में नाकाम रहे हैं और धवन की वापसी से शीर्ष क्रम को जरूरी अनुभव मिलेगा। न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत के दोनों सलामी बल्लेबाज अनुभवहीन थे जिसका खामियाजा टीम को भुगतना पड़ा था।


आस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू श्रृंखला के अंतिम वनडे में धवन को चोट लगी थी जिसके कारण वह न्यूजीलैंड दौरे पर नहीं जा पाए थे। भुवनेश्वर की वापसी से स्लाग ओवरों में भारत की गेंदबाजी मजबूत होगी जहां शारदुल ठाकुर बिलकुल भी प्रभाव नहीं छोड़ पाए।


 


न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टेस्ट के दौरान कंधे में चोट लगने के बाद तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी को इस श्रृंखला से आराम दिया गया है। धर्मशाला की तेज गेंदबाजी की अनुकूल पिच पर रविंद्र जडेजा टीम में एकमात्र स्पिनर हो सकते हैं। टीम प्रबंधन के पास हालांकि कुलदीप यादव को भी टीम में शामिल करने का विकल्प होगा। दक्षिण अफ्रीका की टीम तीन मैचों की एकदिवसीय श्रृंखला में आस्ट्रेलिया का क्लीनस्वीप करने के बाद यहां आई है।


आस्ट्रेलिया के खिलाफ फाफ डु प्लेसिस और रेसी वान डेर डुसेन को आराम दिया गया था लेकिन ये दोनों भारत दौरे पर टीम में शामिल हैं। कप्तानी को अलविदा कहने के बाद से डु प्लेसिस अच्छी फार्म में नहीं हैं और भारत के खिलाफ श्रृंखला के साथ फार्म में लौटने का प्रयास करेंगे।


आस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला में दक्षिण अफ्रीका की जीत में अहम भूमिका निभाने वाले हेनरिक क्लासेन और काइल वेरीने अपनी फार्म को भारत में भी बरकरार रखना चाहेंगे जबकि पैर की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण आस्ट्रेलिया के खिलाफ अंतिम दो वनडे से बाहर रहे तेंबा बावुमा की टीम में वापसी हुई है।


आस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे में शतकीय पारी खेलने वाले जेनमैन मलान टीम के 16वें सदस्य के रूप में अपने पहले भारत दौरे पर आए हैं।


दक्षिण अफ्रीका धर्मशाला में अपना पहला वनडे खेलेगी जबकि भारत ने इस मैदान पर अब तक चार में से दो मैच गंवाए हैं और दो में उसे जीत मिली। इस मैदान पर बाद में खेलने वाली टीमों ने चार में से तीन मैच जीते हैं।


टीमें इस प्रकार हैं:


भारत:


विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, पृथ्वी साव, केएल राहुल, मनीष पांडे, श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत, हार्दिक पंड्या, रविंद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, शुभमन गिल, नवदीप सैनी और कुलदीप यादव।


 


दक्षिण अफ्रीका:


क्विंटन डिकाक (कप्तान), तेम्बा बावुमा, रेसी वान डेर डुसेन, फाफ डु प्लेसिस, काइल वेरीने, हेनरिक क्लासेन, जेनमैन मलान, डेविड मिलर, जान-जान स्मट्स, एंडिले फेहलुकवायो, लुंगी एनगिडी, लूथो सिपामला, एनरिक नोर्टजे, ब्युरोन हेंड्रिक्स, जार्ज लिंडे और केशव महाराज।


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह