ल्यूपिन, जायडस कैडिला, स्ट्राइड्स को अमेरिकी दवा नियामक से विभिन्न मंजूरियां मिलीं

नयी दिल्ली, :: प्रमुख दवा कंपनियों ल्यूपिन, जायडस कैडिला और स्ट्राइड्स फार्मा को अपने उत्पादों के लिए अमेरिकी दवा नियामक यूएसएफडीए से विभिन्न मंजूरियां मिली हैं।


ल्यूपिन ने सोमवार को कहा कि उसे फ्लोरिडा में अपने इनहेलेशन शोध केंद्र के लिए अमेरिकी स्वास्थ्य नियामक से एक स्थापना निरीक्षण रिपोर्ट (ईआईआर) मिली है।


कंपनी ने एक बयान में कहा कि केंद्र का निरीक्षण अमेरिकी खाद्य एवं दवा प्रशासन (यूएसएफडीए) ने 19 फरवरी 2020 और 26 फरवरी 2020 के बीच किया। यह निरीक्षण ब्रिटेन के स्वास्थ्य नियामक यूकेएमएचआरए की तरफ से किया गया।


एक अन्य दवा कंपनी जायडस कैडिला ने शेयर बाजार को बताया कि उसे पार्किंसंस के इलाज के लिए उनकी जेनरिक दवा को यूएसएफडीए से अस्थाई मंजूरी मिल गई है।


बयान में कहा गया कि समूह के पास अब 282 स्वीकृतियां हैं और उसने वित्त वर्ष 2003-04 में आवेदन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से अब तक 386 से अधिक नए दवा आवेदन दायर किए हैं।


इसी तरह स्ट्राइड्स फार्मा साइंस लिमिटेड ने बताया कि कंपनी के बेंगलुरु स्थित प्रमुख संयंत्र केआरएस गार्डन को यूएसएफडीए से ईआईआर प्राप्त हुई है।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
आसाम-बंगाल आम चुनावो के साथ राजस्थान के होने वाले चार उपचुनावो के बाद गहलोत सरकार गिराने की फिर कोशिश हो सकती है! - पायलट समर्थक प्रदेश भर मे किसान महापंचायते आयोजित करके अपना जनसमर्थन बढा रहे है।
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज