सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लोकडाऊन के चलते एकदम से आफत आने पर छाये संकट मे सुभाष महरिया जरुरतमंदों के सहारा बने।


सीकर।
                अचानक बाईस मार्च को जनता कर्फ्यू के दिन कुछ लोग थाली व ताली बजा रहे थे उसी समय राजस्थान सरकार के लोकडाऊन के आदेश जारी होने से गरीब-दिहाड़ी मजदूर व रोज कमा कर खाने वाले को अपने आसमान से हाथ छुटते नजर आने पर अगले दिन से भूखे मरने की काली चादर आंखो के सामने आने पर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया उनके सहारे की किरण नजर आये। भूख से बिलबीलाते बच्चों को देखकर माता-पिताओं के आंखो से लाचारी से निकलते आंसुओं को सूखने से पहले जब महरिया की टीम केवल मात्र  ऐसी थी जो जरुरतमंद लोगो के पास कम से कम पंद्रह दिन का राशन सामग्री का किट लेकर पहुंचने लगे तो उन जरूरतमंदो के दिलो से एकाएक दुवाओ के शब्द अपने आप निकलने लगे
             पूर्व मंत्री सुभाष महरिया व उनके भाई पूर्व विधायक नंदकिशोर महरिया के नेतृत्व मे संचालित सुधीर महरिया स्मृति संस्थान, सीकर द्वारा जरुरतमंद परिवारों के घर घर जाकर खाद्य सामग्री के किट बांटने का काम  लगातार आज मंगलवार को भी जारी रहा। खाद्य सामग्री के किट वितरण शुरु करने के साथ ही सुभाष महरिया ने एक लाख रुपये कोविड-19 के मुख्यमंत्री राहत कोष मे जमा करवाये व नंद किशोर महरिया ने अपने चार माह की पेंशन भी मुख्यमंत्री राहत कोष मे देने की घोषणा की।
       सुधीर महरिया स्मृति संस्थान निदेशक एवं बी. एल. मील ने एक जानकारी मे बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते हो रहे लोकडाउन से गरीब जरूरतमंद लोगों के खाने की व्यवस्था को देखते हुए सुधीर महरिया स्मृति संस्थान सीकर द्वारा आज मंगलवार को भी खाद्य सामग्री  के 147  पैकेट बांटे गए एवं अब तक 1057 पैकेट बांटे जा चुके हैं |
         खाद्य सामग्री सुधीर महरिया स्मृति संस्थान के संरक्षक पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया एवं सचिव नन्दकिशोर महरिया के सहयोग से लगातार जरुरतमंदों को बांटी जा रही है। एक पैकेट में 10 किलो आटा, 1 किलो चीनी, 1 किलो चावल, 1 किलो नमक, 1 किलो दो प्रकार की दाल, मिर्च, हल्दी, चाय, साबुन व मास्क शामिल है। एक किट में एक परिवार की लगभग15 दिन की भोजन सामग्री है। 
        संस्थान द्वारा बनाये गए कंट्रोल रूम में अलग अलग क्षेत्र के जन प्रतिनिधि एवं अन्य सामाजिक संगठन प्रतिनिधि द्वारा दी गई सूचना के अनुसार व संस्थान टीम संदस्यों के द्वारा चिहिन्त किए क्षेत्र  जादम नगर पुरोहित जी की ढाणी, न्यू हाउसिंग बोर्ड ,वार्ड नंबर 39 ,राजनगर धोद रोड, ज्योति नगर कोयला गोदाम, किशन कॉलोनी ,धर्माना चौकी के पास, मोदी कोठी गली ,जलधारी नगर प्याऊ, औद्योगिक क्षेत्र, नवलगढ़ शुरू रेलवे लाईन के बीच, हरिजन बस्ती के आस-पास सहित अन्य जगह पर जरूरतमंद परिवारों को खाद्य सामग्री के पैकेट बाँटे गये |
               इस कार्य में पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया द्वारा संचालित सुधीर महरिया स्मृति संस्थान के डायरेक्टर बी.एल. मील, सुभाष मील, राकेश मील, मोहन बाजोर,  पूर्व सैनिक शिवपाल सिंह मील, पार्षद मोहम्मद इमरान, पार्षद बलराम  नायक, एडवोकेट सादिया, पार्षद प्रदीप बाल्मीकि, मोहम्मद इब्राहिम, इंजीनियर दिनेश जाखड़,  मौलाना बरकत अली, इमरान कारीगर सहित नेहरु युवा संस्थान, न्यू हाउसिंग बोर्ड विकास समिति के स्वयं सेवक व सुधीर महरिया स्मृति संस्थान के कार्यकर्ता घर-घर जागर जरुरतमंदों को खाद्य सामग्री के किट बांटने का कार्य सुचारू रुप से कर रहे है।
                 कुल मिलाकर यह है कि लोकडाऊन के पहले दिन से ही सीकर की जनता के हर फर्द से निजी जुड़ाव रखने वाले व उनके दुख-सूख के साथी के तौर पर जाने पहचाने जाने वाले सुभाष महरिया ने परिवार के लिये आवश्यक खाद्य सामग्री के किट जरुरतमंदों के हाथो तक पहुंचाने का जो काम शुरू कर रखा है। उसकी दुख व मुसीबत की घड़ी मे लोगो के साथ खड़े होकर भागीदारी निभाने से सुभाष महरिया द्वारा किये जा रहे नैक कार्यों की हर मन से प्रशंसा के स्वर सुनाई दे रहे है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह