सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

लख्ननऊ पोस्टर: न्यायालय ने कहा, उप्र सरकार की अपील पर आगे विचार की जरूरत

नयी दिल्ली, :: उच्चतम न्यायालय ने लखनऊ में सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के पोस्टर लगाने को ‘एक महत्वपूर्ण मुद्दा’ बताते हुये बृहस्पतिवार को उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ उप्र सरकार की अपील तीन न्यायाधीशों के पास विचार के लिये भेज दी।


शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में कहा, ‘‘अपील पर ‘आगे विस्तार से विचार की आवश्यकता है।’’


न्यायमूर्ति उदय यू ललित और न्यायमूर्ति अनिरूद्ध बोस की अवकाश कालीन पीठ ने इस तथ्य का संज्ञान लिया कि इस मामले में निजता के अधिकार और दंगाई से क्षतिपूर्ति की भरपाई के बारे में शीर्ष अदालत के पहले के निर्देशों के मुद्दे शामिल हैं।


पीठ ने अपने आदेश में कहा, ‘‘इस मामले के स्वरूप और इसमें शामिल मुद्दे के महत्व को देखते हुये, हमारी राय में इसे जल्द से जल्द और संभव हो तो 16 मार्च से शुरू हो रहे सप्ताह के दौरान ही कम से कम तीन न्यायाधीशों की पीठ के समक्ष पेश किया जाये।’’


पीठ ने शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री को निर्देश दिया कि इस मामले के रिकार्ड को तत्काल प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे के समक्ष पेश किया जाये ताकि इस मामले में समाहित विवाद को देखते हुये इस पर आने वाले सप्ताह में सुनवाई करने और विचार के लिये प्रधान न्यायाधीश उचित संख्या वाली पीठ गठित कर सकें।


शीर्ष अदालत ने इस मामले में पक्षकार बनने के इच्छुक उन लोगों को राज्य सरकार की अपील में पक्षकार बनाने की छूट प्रदान की है जिनके नाम, तस्वीरें और पते इन पोस्टरों में दर्शाये गये हैं।


पीठ ने कहा कि इस मामले में यदि ऐसे लोग, जिनके नाम, तस्वीर और पते पोस्टर में हैं, पक्षकार बनने के लिये आवेदन दायर करते हैं तो उनके आवेदनों को भी मुख्य मामले के साथ ही सूचीबद्ध किया जाये।


शीर्ष अदालत ने उप्र सरकार की ओर से सालिसीटर जनरल तुषार मेहता और इन पोस्टरों में दर्शाये गये कथित प्रदर्शनकारियों की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ताओं अभिषेक मनु सिंघवी, कॉलिन गोन्साल्विज और सी यू सिंह की दलीलों का भी संज्ञान लिया।


इस मामले में सुनवाई के दौरान शीर्ष अदालत ने राज्य सरकार से कहा कि ऐसा कोई कानून नहीं है जो सड़क किनारे लगाये गये पोस्टरों में उन व्यक्तियों का विवरण प्रदर्शित करने की कार्रवाई का समर्थन करता हो जो नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के दौरान हिंसा करने के आरोपी हैं।


इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने नौ मार्च को अपने आदेश में प्रशासन को इन पोस्टरों को हटाने का ही नहीं बल्कि उसे 16 मार्च से पहले अपनी अनुपालन रिपोर्ट दाखिल करने का भी निर्देश दिया था।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह