लाॅकडाउन में परिवहन कार्यालयों के बन्द होने के कारण अभिलेखों के नवीनीकरण अथवा निर्गत करने की प्रक्रिया बाधित -धीरज साहू

लखनऊः उत्तर प्रदेश के परिवहन आयुक्त,  धीरज साहू ने बताया कि वाहनों के फिटनेस, परमिट (सभी प्रकार), ड्राइविंग लाइसेंस, पंजीयन अथवा अन्य संबंधित अभिलेख, जिनकी वैधता 01 फरवरी, 2020 को समाप्त हो गयी है अथवा आगामी 30 जून तक समाप्त हो रही है, उन सभी अभिलेखों की वैधता 30 जून, 2020 तक मान्य होगी।
 साहू ने बताया कि कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण से बचाव हेतु भारत सरकार द्वारा गत् 24 मार्च को राश्ट्रव्यापी लाॅकडाउन घोशित किया गया तथा इस लाॅकडाउन हेतु विस्तृत दिशा-निर्देश भी निर्गत किये गये हैं। राश्ट्रव्यापी लाॅकडाउन में सभी परिवहन कार्यालय बन्द हैं, जबकि इस लाॅकडाउन में भी आवष्यक वस्तुओं की उपलब्धता हेतु परिवहन यानों से ढुलाई का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन होने के कारण कई वाहनों के फिटनेस, परमिट, ड्राइविंग लाइसेंस, पंजीयन अथवा अन्य संबंधित अभिलेखों की वैधता नहीं बढ़ायी जा सकी है। 
परिवहन आयुक्त ने यह भी बताया कि लाॅकडाउन में परिवहन कार्यालयों के बन्द होने के कारण मोटरयान अधिनियम व नियमावली में निर्गत विभिन्न अभिलेखों यथा फिटनेस, परमिट, ड्राइविंग लाइसेंस आदि के नवीनीकरण अथवा निर्गत करने की प्रक्रिया बाधित है। इस कारण आगे भी लाॅकडाउन अवधि में इन अभिलेखों की वैधता बढ़ाया जाना संभव नहीं है। ऐसी स्थिति में इस प्रकार के सभी अभिलेखों की वैधता अवधि आगामी 30 जून निर्धारित की गयी है। 


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।