कोरोना महामारी में हर चीज़ के भाव बढ़े पर चिकित्सकों की फीस आज भी जस की तस : सैलूट

चित्रकूट। कोरोना महामारी में लॉक डाउन के चलते गेहूं से लेकर सब्ज़ी भाजी के भाव मे भले बढ़ोत्तरी हो गई हो लेकिन चिकित्सा की दुनिया आज भी उसी तरह सेवा भाव मे जुटी हुई है।चिकित्सक ही एक ऐसे है जिन्होंने ना तो अपनी फीस में वृद्धि की है ना हीं कार्य के प्रति कोई लापरवाही बरती जा रही है और ज़रूरतमंद गरीब को आज भी निःशुल्क सेवा कर रहे हैं। शायद इसीलिए इन्हें धरती का भगवान कहा गया है बावजूद इसके हम सभी इन भगवान की थोड़ी बहुत गलतियों पर बिफर उठते हैं और सोशल मीडिया में ज़हर उगलने का कार्य करते हैं। हम सभी को धरती के भगवान को सलाम करना चाहिए और इस माहौल में उनकी इज़्ज़तो अफ़ज़ाई करके शुक्रिया अदा करना चाहिए।


 


टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज