चिकित्सको का चैम्बर सेनेटाइजर को मोहताज 

चित्रकूट। जहाँ पूरा देश कोरोना वायरस की लड़ाई में एहतियात बरत रहा है तो वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य विभाग एहतियात बरतने में लाचार देखा जा रहा है। ज़िला चिकित्सालय कर्वी से लेकर इर्द गिर्द की तमाम सीएचसी, पीएचसी मे चिकित्सकों के चैम्बर में एक सेनेटाइजर तक नहीं है। स्वास्थ्य विभाग जब ख़ुद चिकित्सकों की सुरक्षा का ध्यान नहीं दे पा रहा है तो विभाग कैसे कोरोना जैसी लड़ाई में सफल साबित होगा। प्रदेश सरकार अगर स्वास्थ्य विभाग को स्वतः वेंटीलेटर से नहीं निकाल पाई तो मरीज़ों से पहले चिकित्सकों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। जिसको लेकर चिकित्सकों के माथे पर शिकन देखने को मिल रही है।


 


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से कांग्रेस विधायक एक एक करके दूर होने लगे!
इमेज
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।