सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अमेरिका में 100 से अधिक लोगों की मौत, वुहान में केवल एक मामले की पुष्टि

वाशिंगटन, :: कोरोना वायरस से दुनियाभर में मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस घातक विषाणु से विश्व भर में करीब दो लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं और करीब 7,900 लोगों की मौत हो चुकी है।


अमेरिका जैसे विकसित देश में इस संक्रामक बीमारी से मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 105 पर पहुंच गई है और यह विषाणु उसके सभी 50 राज्यों तक फैल गया है।


ऑस्ट्रेलिया में भी इस विषाणु से 450 से अधिक लोग संक्रमित हो गए हैं जबकि कोरोना वायरस का केंद्र रहे चीन के वुहान शहर में मंगलवार को लगातार दूसरे दिन केवल एक मामले की पुष्टि हुई। हालांकि देश में इस बीमारी से 11 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या 3,237 पर पहुंच गई है।


भारत के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस के संक्रमण के 10 नए मामले सामने आने के बाद इस घातक विषाणु से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 147 हो गई है।


अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हालात को संभालने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास तेज कर दिए हैं जिनमें अर्थव्यवस्था को राहत देने के लिए एक हजार अरब डॉलर का पैकेज देना भी शामिल है।


कोविड-19 से अमेरिका में पहली मौत का मामला 26 फरवरी को वाशिंगटन से सामने आया था। एक महीने से भी कम समय में मृतकों की संख्या 100 से अधिक हो गई। देश में संक्रमित मामलों की संख्या 6,500 पार कर गई है।


अमेरिका के राष्ट्रपति ने 10 से अधिक लोगों के एकत्रित न होने का अनुरोध किया है। उन्होंने लोगों से घरों के भीतर रहने और जितना संभव हो सके, उतना घर से ही काम करने के लिए कहा है। देशभर में स्कूल, कार्यालय, बार, रेस्तरां और कई स्टोर बंद हैं।


न्यूयॉर्क के मेयर ने कहा कि शहर के 80 लाख 60 हजार निवासियों को कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए अगले 48 घंटे के भीतर किसी भी समय घर पर रहने का आदेश मिलने के लिए तैयार रहना चाहिए।


इसके साथ ही कोरोना वायरस के कारण आर्थिक सुस्ती से बुरी तरह प्रभावित अमेरिकियों को राहत देने के लिए ट्रम्प ने उन्हें जल्द से जल्द सीधे पैसा भेजने का निर्देश दिया है।


अमेरिका में टेक्सास की एक अदालत ने बुधवार को दी जाने वाली फांसी की सजा की तामील पर 60 दिन की रोक लगा दी है।


चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने बताया कि देश में मंगलवार को कोरोना वायरस के संक्रमण से 11 और लोगों की मौत हुई तथा 13 नए मामलों की पुष्टि हुई।


वुहान और हुबेई प्रांत 23 जनवरी से बंद हैं। हालांकि अब सरकार ने वहां कई उद्योगों और कारोबारों को बहाल करने की योजनाएं शुरू कर दी हैं।


फ्रांस में कोरोना वायरस से 27 और लोगों की मौत के साथ ही मरने वाले लोगों की संख्या 175 पर पहुंच गई है।


फ्रांस के शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी जेरोम सालोमन ने मंगलवार को पत्रकारों से कहा कि देश में संक्रमित मामलों की संख्या अब 7,730 पर पहुंच गई है।


उनकी यह टिप्पणियां तब आई हैं जब फ्रांस में लोगों से घरों में रहने तथा सभी गैर आवश्यक गतिविधियों को रोकने का ऐलान किया गया है।


फ्रांस के प्रधानमंत्री एडुआर्ड फिलिप ने कहा कि अगर ब्रिटेन कोरोना वायरस से लड़ने के लिए शहरों को बंद करने में नाकाम होता है तो फ्रांस ब्रिटिश यात्रियों को देश में प्रवेश करने से रोक सकता है।


तुर्की ने भी कोरोना वायरस से पहली मौत की पुष्टि की है। देश में संक्रमित मामलों की संख्या बढ़कर 98 पर पहुंच गई है।


वहीं, कई विश्व नेताओं ने कोरोना वायरस के कारण शहरों के कई हफ्तों या महीनों तक बंद रहने की आशंका जताई है।


कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशवासियों से कई हफ्तों या महीनों तक घरों में रहने और कारोबार बंद रहने के लिए तैयार रहने का अनुरोध किया है।


आयरलैंड के प्रधानमंत्री लियो वराडकर ने भी आगाह किया कि देश में कोरोना वायरस की आपात स्थिति गर्मियों तक जारी रह सकती है। सरकार ने पहले ही स्कूल, विश्वविद्यालय और पब 29 मार्च तक बंद कर दिए हैं। 100 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर भी पाबंदी है।


बेल्जियम की प्रधानमंत्री सोफी विल्म्स ने भी लोगों को कम से कम पांच अप्रैल तक घरों में रहने के लिए कहा है। केवल उन लोगों को घर से बाहर निकलने की अनुमति दी जाएगी जिन्हें चिकित्सा सेवा की आवश्यकता होगी या वे किसी आवश्यक व्यवसाय में काम कर रहे होंगे।


डेनमार्क ने भी 10 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर रोक लगाने और सुपरमार्केट तथा दवाई की दुकानों के अलावा ज्यादातर दुकानों को बंद करने का ऐलान किया है। डेनमार्क में 1,000 से अधिक लोग संक्रमित हैं तथा चार लोगों की मौत हो चुकी है।


ऑस्ट्रेलिया ने भी कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के लिए अपने नागरिकों को विदेश की यात्रा रोकने का बुधवार को आदेश दिया। ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने 100 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर रोक के साथ ही विदेश यात्रा पर ‘‘अनिश्चितकाल के प्रतिबंध’’ की घोषणा की।


मॉरिसन ने इस महामारी पर कहा, ‘‘यह 100 साल में एक बार होने वाली घटना है। हमने प्रथम विश्व युद्ध के अंत से लेकर अब तक ऑस्ट्रेलिया में इस तरह की चीज नहीं देखी है।’’


दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन शहर के तट पर एक क्रूज जहाज और मालवाहक जहाज पर कोरोना वायरस से संक्रमित होने की आशंका में 1,700 से अधिक लोग फंसे हुए हैं।


कोरोना वायरस के संकट के बीच वेनेजुएला ने कहा कि उसने पहले से ही लचर अर्थव्यवस्था के लिए अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से पांच अरब डॉलर का आपात कर्ज मांगा है।


इस बीच, संयुक्त राष्ट्र और नौ देशों ने लीबिया में युद्धरत पक्षों से स्वास्थ्य अधिकारियों को कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सहयोग देने के लिए संघर्ष बंद करने का आह्वान किया है।


अल्जीरिया, फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, ब्रिटेन और अमेरिका के राजदूतों के साथ-साथ लीबिया में यूरोपीय संघ के प्रतिनिधि मंडलों तथा ट्यूनीशिया और संयुक्त अरब अमीरात की सरकारों ने ‘‘मानवीय युद्ध विराम’’ की अपील की है।


वहीं, यूरोपीय संघ परिषद के प्रमुख चार्ल्स मिशेल ने कहा कि अगले सप्ताह होने वाला, यूरोपीय संघ नेताओं का शिखर सम्मेलन कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर वीडियो कांफ्रेंस के जरिए होगा।


इस बीच, अंतरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (आईओएम) और संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी यूएनएचसीआर ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर वे शरणार्थियों के पुनर्वास से जुड़ी यात्राओं को अस्थायी रूप से निलंबित कर रही हैं।


उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने एक सरकारी अस्पताल की नींव रखने के लिए आयोजित समारोह में कहा कि देश में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाए जाने की आवश्यकता है। देश में हालांकि आधिकारिक रूप से इस संक्रमण का कोई मामला सामने नहीं आया है लेकिन उत्तर कोरिया ने इसे देश में आने से रोकने के लिए मुहिम चला रखी है।


ट्रम्प ने कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई जीतने का भरोसा जताते हुए कहा कि विश्व कोविड-19 की एक अदृश्य सेना के खिलाफ युद्ध लड़ रहा है।


ट्रम्प ने ट्वीट किया, ‘‘ विश्व एक छुपे हुए दुश्मन के खिलाफ युद्ध लड़ रहा है। ’’


व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘ हमें इससे छुटकारा पाना होगा, हमें सही तरीके से और जल्दी यह युद्ध जीतना होगा। ’’


वहीं अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने चीन पर आरोप लगाया कि वह कोरोना वायरस के संबंध में अपनी जिम्मेदारी से ध्यान हटाने के लिए दुष्प्रचार अभियान चला रहा है।


इसी बीच, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि उनका देश कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए पश्चिमी देशों की तरह व्यापक पैमाने पर शहरों को बंद नहीं कर सकता।


अमेरिका और कई अन्य देशों ने इस संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने की कवायद में रेस्तरां और अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानों को बंद कर दिया है।


पाकिस्तान के स्वास्थ्य अधिकारियों ने मंगलवार को 1,571 संदिग्ध मामलों की जांच की जिसमें से 200 से अधिक लोग संक्रमित पाए गए। अभी तक मौत का कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं है लेकिन पर्यवेक्षकों को आशंका है कि संक्रमित लोगों की वास्तविक संख्या आंकड़ों से कहीं अधिक है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क