सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तापस पॉल की मौत से बंगाल में राजनीतिक तूफान

कोलकाता, :: तृणमूल कांग्रेस नेता एवं अभिनेता तापस पॉल की मौत से पश्चिम बंगाल में राजनीतिक तूफान खड़ा हो गया है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पॉल की मौत के लिए केन्द्र सरकार की ‘‘प्रतिशोध की राजनीति’’ को जिम्मेदार ठहराया, वहीं भाजपा ने जवाबी हमला करते हुए कहा कि उनकी मौत के लिए तृणमूल कांग्रेस द्वारा की गई उनकी ‘‘अनदेखी और खराब बर्ताव’’ जिम्मेदार है।


तृणमूल कांग्रेस से दो बार सांसद रहे पॉल (61) का दिल का दौरा पड़ने से मंगलवार को मुम्बई में निधन हो गया था।


अभिनेता से नेता बने पॉल रोज वैली चिटफंड घोटाला मामले में आरोपी थे और एक साल से अधिक समय तक जेल में भी रहे थे। वह रोज वैली समूह के ब्रांड एंबेसडर थे।


बनर्जी ने पॉल को श्रद्धांजलि देते हुए आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के एक और नेता सुल्तान अहमद की मौत भी दिल का दौरा पड़ने से हुई थी जो 2016 के नारद टेप घोटाला मामले में आरोपी बनाए जाने के बाद से तनाव में थे।


पूर्व केंद्रीय मंत्री अहमद का 2017 में निधन हो गया था।


तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने दावा किया कि पार्टी सांसद प्रसून बनर्जी की पत्नी की मौत भी केंद्र की ‘‘बदला लेने वाली’’ राजनीति की वजह से हुई थी।


प्रसून बनर्जी का नाम भी नारद टेप घोटाला मामले में आया था और उनसे प्रवर्तन निदेशालय तथा सीबीआई दोनों ने ही पूछताछ की थी।


ममता बनर्जी ने यहां रवीन्द्र सदन में पत्रकारों से कहा, ‘‘तापस पॉल पर केन्द्रीय एजेंसियों का गहरा दबाव था और वह केन्द्र की प्रतिशोध की राजनीति के शिकार हुए।’’


पॉल का पार्थिव शरीर रबीन्द्र सदन में रखा गया ताकि लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे सकें। दोपहर बाद पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।


बनर्जी की टिप्पणियों पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा, ‘‘उनके मन में तापस पाल के लिए सम्मान जैसा कुछ था ही नहीं । उन्हें (पॉल) तृणमूल कांग्रेस में कभी सम्मान नहीं मिला। तृणमूल कांग्रेस भ्रष्टाचार में डूबी हुई पार्टी है।’’


बंगाली सिनेमा के सबसे अच्छे कलाकारों में से एक के रूप में पॉल की सराहना करते हुए भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष जयप्रकाश मजूमदार ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस ने पॉल की गिरफ्तारी के बाद उनकी अनदेखी की।


उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस द्वारा अनदेखी और खराब बर्ताव किए जाने से पॉल अवसाद में चले गए और उनकी हालत बिगड़ती गई।


बनर्जी ने ‘दादर कीर्ति’ और ‘साहेब’ जैसी फिल्मों में काम के लिए पॉल की प्रशंसा करते हुए कहा कि कलाकार और अभिनेता कई संगठनों से ब्रांड एंबेसडर के तौर पर जुड़े होते हैं।


उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन क्या यह ऐसी गलती है जिसके लिए उन्हें एक वर्ष से अधिक समय जेल में रहना पड़ा? क्या यह सही है? यह शुद्ध रूप से राजनीतिक प्रतिशोध है।’’


ममता ने कहा कि इसी तरह का मामला फिल्म निर्माता श्रीकांत मोहता के साथ था जिन्हें लंबे समय तक जेल में रखा गया।


सीबीआई ने गत वर्ष जनवरी में जाने-माने बांग्ला फिल्म निर्माता श्रीकांत मोहता को रोज वैली चिटफंड मामले के सिलसिले में गिरफ्तार किया था।


कांग्रेस सांसद प्रदीप भट्टाचार्य ने बनर्जी की टिप्पणियों की निन्दा की और कहा कि वह मृत व्यक्ति की अंतिम यात्रा का इस्तेमाल राजनीतिक लाभ के लिए कर रही हैं।


माकपा विधायक दल के नेता सुजान चक्रबर्ती ने भी बनर्जी की टिप्पणी की आलोचना की और कहा कि पॉल के प्रति बनर्जी इतनी सहानुभूति क्यों दिखा रही हैं जिनकी पार्टी ने गिरफ्तारी के बाद उनकी ‘‘अनदेखी’’ की।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका