सिनेमाघरों में 12 जून को आएगी “छलांग”

मुंबई, :: बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव और नुसरत भरूचा अभिनीत फिल्म “छलांग” 12 जून को रिलीज होगी। फिल्म निर्माताओं ने बृहस्पतिवार को यह घोषणा की।


पहले इस फिल्म का शीर्षक “तुर्रम खान” था और यह फिल्म 13 मार्च को रिलीज होने वाली थी। बाद में बदल कर इसका नाम “छलांग” कर दिया गया।


हंसल मेहता निर्देशित यह फिल्म उत्तर प्रदेश के एक छोटे से कस्बे में आधारित सामाजिक कॉमेडी है। इस फिल्म में मोहम्मद जीशान अयूब और सौरभ शुक्ला भी अहम किरदारों में हैं।


फिल्म के निर्माता अजय देवगन, लव रंजन और अंकुर गर्ग हैं।


“शाहिद”, “सिटीलाइट्स”, “अलीगढ़” और “ओमेर्ता” जैसी सफल फिल्मों के बाद “छलांग” मेहता और राव की साथ में पांचवीं फिल्म होगी। राव और भरूचा इससे पहले 2010 में आयी फिल्म “लव सेक्स और धोखा” में साथ नजर आए थे।


भाषा शुभांशि वैभव वैभव 1302 1522 मुंबई जसजस आवश्यक .मुंबई प्रादे 49 सिनेमा राजकुमार सिनेमाघरों में 12 जून को आएगी “छलांग” मुंबई, 13 फरवरी (भाषा) बॉलीवुड अभिनेता राजकुमार राव और नुसरत भरूचा अभिनीत फिल्म “छलांग” 12 जून को रिलीज होगी। फिल्म निर्माताओं ने बृहस्पतिवार को यह घोषणा की।


पहले इस फिल्म का शीर्षक “तुर्रम खान” था और यह फिल्म 13 मार्च को रिलीज होने वाली थी। बाद में बदल कर इसका नाम “छलांग” कर दिया गया।


हंसल मेहता निर्देशित यह फिल्म उत्तर प्रदेश के एक छोटे से कस्बे में आधारित सामाजिक कॉमेडी है। इस फिल्म में मोहम्मद जीशान अयूब और सौरभ शुक्ला भी अहम किरदारों में हैं।


फिल्म के निर्माता अजय देवगन, लव रंजन और अंकुर गर्ग हैं।


“शाहिद”, “सिटीलाइट्स”, “अलीगढ़” और “ओमेर्ता” जैसी सफल फिल्मों के बाद “छलांग” मेहता और राव की साथ में पांचवीं फिल्म होगी।


 


राव और भरूचा इससे पहले 2010 में आयी फिल्म “लव सेक्स और धोखा” में साथ नजर आए थे।


 


टिप्पणियां
Popular posts
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
एल पी एस निदेशक नेहा सिंह व हर्षित सिंह सम्मानित किये गये
इमेज
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।