सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पूर्व राज्यपाल राम नाईक का हुआ नागरिक अभिनन्दन


लखनऊ विश्वविद्यालय के मालवीय सभागार में  संस्था रंगभारती एवं उत्तर प्रदेश नागरिक परिषद द्वारा आयोजित 35वें उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस समारोह में उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल श्री राम नाईक को ‘भारती तिलक’ सम्मान से सम्मानित कर नागरिक अभिनंदन किया गया। कार्यक्रम के मख्य अतिथि राजस्थान के राज्यपाल श्री कलराज मिश्र थे तथा अध्यक्षता डाॅ0 अम्मार रिज़वी पूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश ने की। इस अवसर पर मंत्री श्री महेन्द्र सिंह, मंत्री श्री बृजेश पाठक, सांसद डाॅ0 रीता बहुगुणा जोशी, महापौर लखनऊ श्रीमती संयुक्ता भाटिया, उर्दू अकादमी की अध्यक्ष श्रीमती आसिफा जमानी, लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 आलोक राय, पूर्व कुलपति श्री एस0पी0 सिंह, कार्यक्रम के संयोजक श्री श्याम कुमार सहित अन्य विशिष्टजन भी उपस्थित थे।
मुख्य अतिथि एवं राजस्थान के राज्यपाल श्री कलराज मिश्र ने कहा कि श्री नाईक से पुराना संबंध है। उनके साथ राजनीति में कार्य किया है। राज्यपाल के रूप में श्री नाईक का कार्यकाल अभूतपूर्व रहा है। उन्होंने अपने कार्यकाल में राजभवन में आराम नहीं किया बल्कि जनता से संवाद बनाया और अनेक गैर जरूरी धारणाओं को समाप्त किया तथा सदैव पद की गरिमा को बनाये रखा। संविधान के अनुरूप कार्य करते हुए सभी से बराबरी का व्यवहार किया। कोई व्यक्ति अपने पद पर कार्य करते हुए कैसे जन कल्याणकारी स्वरूप में सक्रिय भूमिका निभा सकता है, श्री नाईक ने ऐसा कार्य किया है। उन्होंने कहा कि पद के साथ दायित्व का निर्वहन ही देश की सच्ची सेवा होती है। सभी सम्मानमूर्तियों को बधाई देते हुए श्री मिश्र ने कहा कि उत्तर प्रदेश बड़ा प्रदेश है। सर्वाधिक आबादी वाला उत्तर प्रदेश कैसे आगे बढ़े और विकसित प्रदेश बने, इस पर सत्त विचार होना चाहिए।
पूर्व राज्यपाल श्री राम नाईक ने संस्था रंगभारती एवं उत्तर प्रदेश नागरिक परिषद को नागरिक अभिनंदन के लिये धन्यवाद देते हुए कहा कि श्याम कुमार जी स्वयं के प्रयास से उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस मनाते थे। उन्होंने मुझे प्रथम बार निमंत्रित किया। उत्तर प्रदेश बड़ा प्रदेश है। 21 प्रदेश अपना स्थापना दिवस मनाते है। श्री नाईक ने कहा कि ‘‘मुझे प्रसन्नता है कि मेरे सुझाव पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस पर सरकारी आयोजन की शुरूआत की। उन्होंने कहा कि मेरे कार्यकाल में उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस मनाने का कार्य हुआ, जो समाधान देने वाली बात है।
श्री नाईक ने बताया कि उनके प्रयास से आजादी के 42 साल बाद देश की सबसे बड़ी पंचायत में ‘जन-मन-गण’ एवं ‘वंदे मात्रम’ गायन की शुरूआत हुई। इसी तरह स्थापना के 68 वर्ष बाद उत्तर प्रदेश में स्थापना दिवस आयोजन की शुरूआत हुई। इसके लिये श्याम कुमार धन्यवाद के अधिकारी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर ‘एक जिला-एक उत्पाद’ जैसी महत्वाकांक्षी योजना का शुभारम्भ किया। इस योजना से उत्तर प्रदेश को नई पहचान मिलेगी और रोजगार के नये अवसरों का सृजन होगा। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण प्रदेश में उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस के कार्यक्रम होने चाहिए।
श्री नाईक ने कहा कि वे जनता के समक्ष जवाबदेही के लिये प्रतिवर्ष अपना कार्यवृत्त प्रकाशित करते रहे हैं। मराठी दैनिक ‘सकाल’ के लिये लिखे संस्मरणों के संकलन मराठी पुस्तक ‘चरैवेति-चरैवेति’ के कारण वे एक्सीडेंटल राइटर बन गये। उनकी पुस्तक ‘चरैवेति!चरैवेति!!’ का हिन्दी, अंग्रेजी, उर्दू, संस्कृत, गुजराती, सिंधी, अरबी, फारसी, जर्मन, असमिया भाषा सहित ब्रेल लिपि हिन्दी, अंग्रेजी एवं मराठी संस्करण का प्रकाशन हुआ। पुस्तक ‘चरैवेति!चरैवेति!!’ 11 भाषाओं तथा ब्रेल लिपि में 3 भाषाओं में उपलब्ध है और शीघ्र ही नेपाली, कश्मीरी और तमिल में प्रकाशित हो रही है। श्री नाईक ने कहा कि पुस्तक चरैवेति-चरैवेति से उन्हें पहचान मिली है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के राज्यपाल के रूप में अपने कार्यकाल पर आधारित पुस्तक ‘चरैवेति-चरैवेति-2’ लिख रहे हैं। श्री नाईक ने कहा कि उनके कार्यकाल से संबंधित कोई संस्मरण हो तो उन्हें भेंजे, उसे पुस्तक ‘चरैवेति-चरैवेति-2’ में सम्मिलित किया जायेगा।
मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह ने कहा कि श्री नाईक की विशेषताओं का वर्णन ‘पानी पर पानी से पानी लिखना’ जैसा मुश्किल कार्य है। पूर्व राज्यपाल का अभिनन्दन करते हुए उन्होंने कहा कि वे यशस्वी राज्यपाल के रूप में सदैव याद किये जाते रहेंगे।
सांसद डाॅ0 रीता बहुगुणा जोशी ने पूर्व राज्यपाल को बधाई देते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में श्री नाईक के प्रयास से ही उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस की शुरूआत हुई जिसके माध्यम से अनेक योजनाओं का शुभारम्भ हुआ। उनके प्रयास से ही प्रयागराज को उसका पौराणिक नाम मिला। उन्होंने कहा कि श्री नाईक ने लोकसभा सांसद रहते हुए भी अनेक महत्वपूर्ण निर्णय कराये।
महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने कहा कि श्री नाईक की पुस्तक प्रेरणा प्रदान करने वाली है। राज्यपाल के रूप में उनसे प्रदेश को बहुत स्नेह मिला। श्री नाईक ने सफल अभिभावक के रूप में प्रदेश की सेवा की है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए डाॅ0 अम्मार रिज़वी ने कहा कि श्री राम नाईक पूर्व राज्यपाल होने के बावजूद आज भी हृदयपाल हैं।
संस्था रंगभारती की ओर से (1) नारी सशक्तीकरण के लिये अनारकली देवी रंगभारती सम्मान से डाॅ0 अनीता सहगल, (2) समाज सेवा के लिये धर्मकिशोर रंगभारती सम्मान से श्री शशांक श्रीवास्तव, (3) पुलिस सेवा के लिये विश्वनाथ लहरी रंगभारती सम्मान से श्री सुलखान सिंह पूर्व पुलिस महानिदेशक, (4) प्रशासनिक सेवा के लिये डाॅ0 जनार्दनदत्त शुक्ल रंगभारती सम्मान से श्री रमेश चन्द्र त्रिपाठी पूर्व महासचिव राज्यसभा, (5) गायन के लिये जगजीत सिंह रंगभारती सम्मान से श्रीमती कमला श्रीवास्तव, (6) चित्रकला के लिये नंदलाल बोस रंगभारती सम्मान से डाॅ0 इंदुप्रकाश ऐरन, (7) शास्त्रीय नृत्य के लिये उदयशंकर रंगभारती सम्मान से श्रीमती पूर्णिमा पाण्डेय, (8) चिकित्सा क्षेत्र के लिये धन्वंतरि रंगभारती सम्मान से डाॅ0 राधाकृष्ण धीमान निदेशक संजय गांधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान, (9) संस्कृत भाषा के लिये कालिदास रंगभारती सम्मान से श्री ओमप्रकाश पाण्डेय सम्पादक राष्टधर्म को अंग वस्त्र, स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।
रंगभारती के अध्यक्ष श्री श्याम कुमार ने स्वागत उद्बोधन देते हुये कहा कि श्री राम नाईक जनप्रिय राज्यपाल थे जिन्होंने राजभवन को ‘जनभवन’ बना दिया था। कार्यक्रम में मंत्री श्री बृजेश पाठक सहित अन्य वक्ताओं ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि