सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

निर्भया मामले के दोषियों का उच्च न्यायालय में दावा : उन्हें एक साथ ही फांसी देनी होगी

नयी दिल्ली , निर्भया सामूहिक बलात्कार एवं हत्या मामले में चार दोषियों ने रविवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में दलील दी कि चूंकि उन्हें एक ही आदेश के जरिए मौत की सजा सुनाई गई है, इसलिए उन्हें एक साथ फांसी देनी होगी और उनकी सजा का अलग-अलग क्रियान्वयन नहीं किया जा सकता।


चार दोषियों -- मुकेश कुमार (32), अक्षय सिंह (31), विनय शर्मा (26) और पवन गुप्ता (25)--की ओर से अदालत में पेश हुए वकीलों ने उच्च न्यायालय से कहा कि उनमें से कुछ को चुनिंदा तरीके से फांसी नहीं दी सकती। साथ ही, ना ही केंद्र और ना ही दिल्ली सरकार के पास ऐसा करने की शक्ति है।


केंद्र और दिल्ली सरकार की संयुक्त याचिका पर सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति सुरेश कुमार कैत के समक्ष यह दलील दी गई। याचिका के जरिए एक निचली अदालत के उस आदेश को चुनौती दी गई है जिसके तहत इन चारों दोषियों की फांसी पर अगले आदेश तक रोक लगा दी गई है।


मुकेश की ओर से पेश हुई वरिष्ठ अधिवक्ता रेबेका जॉन और वृंदा ग्रोवर ने उच्च न्यायालय से कहा कि अदालत की एक खंडपीठ के उस हालिया आदेश के मद्देनजर यह याचिका स्वीकार किए जाने योग्य नहीं है, जिसमें कहा गया था कि निचली अदालत के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देनी होगी।


उच्च न्यायालय का यह आदेश, जिसका जॉन जिक्र कर रही थीं, मुकेश की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार करते हुए आया था। उस याचिका के जरिए चारों दोषियों की 22 जनवरी को फांसी पर निचली अदालत के शुरूआती आदेश पर रोक लगाने की मांग की गई थी। अक्षय सिंह, विनय शर्मा और पवन की ओर से पेश हुए अधिवक्ता ए पी सिंह ने अपनी दलीलें शुरू करते हुए दावा किया कि इस मामले में तथ्य हैं, जैसे कि आरोपी राम सिंह की मौत, जिसकी पुलिस ने जांच नहीं की।


हालांकि, कुछ मिनट के लिए मुद्दे पर उन्हें सुनने के बाद अदालत ने कहा कि दलीलें प्रासंगिक नहीं हैं क्योंकि सुनवाई पूरी हो गई है और पूरे मामले पर उच्चतम न्यायालय ने फैसला किया है।


इसके बाद अदालत ने उन्हें बैठ जाने को कहा, जिसके बाद जॉन ने दलीलें शुरू की।


जॉन ने अपनी दलीलों के दौरान कहा, ‘‘निचली अदालत द्वारा सुनाई गई मौत की सजा एक समग्र आदेश है और इसे उच्च न्यायालय तथा उच्चतम न्यायालय ने कायम रखा। यदि सजा एक है तो उसका क्रियान्वयन भी एक साथ होना चाहिए।’’


उन्होंने कहा, ‘‘सजा को अलग-अलग करना कानून के मुताबिक संभव नहीं है।’’


जॉन ने कहा कि केंद्र दोषियों पर आरोप लगा रहा है कि वे जानबूझ कर कानून की प्रक्रिया में देर कराने पर काम कर रहे हैं लेकिन वे (केंद्र और दिल्ली सरकार) अभी तक क्या कर रहे थे।


उन्होंने कहा, ‘‘वे हम पर देर कराने का आरोप लगा रहे हैं। केंद्र सिर्फ दो दिन पहले ही जगा है।’’


उन्होंने दलील दी कि केंद्र निचली अदालत में मामले की कार्यवाही में कभी पक्षकार नहीं रहा। ‘‘यह पीड़िता के माता- पिता थे जिन्होंने दोषियों के खिलाफ मौत का वारंट जारी कराने के लिए निचली अदालत का रुख किया था।’’


उन्होंने कहा कि यदि किसी दूसरे की दया याचिका राष्ट्रपति मंजूर कर लेते हैं तो यह परिस्थिति को बदल देगा, जिससे उनके मुवक्किल को एक और दया याचिका देने का हक मिल जाएगा।


उन्होंने अदालत से कहा, ‘‘यही कारण है कि मेरे (मुकेश के) लिए इंतजार करना कितना महत्वपूर्ण है। मेरे मूल अधिकार संरक्षित हैं। संविधान के तहत इसकी गारंटी है।’’


उन्होंने कहा, ‘‘मैं सिर्फ कुछ और दिन मांग रही हूं। यदि सब कुछ खारिज हो जाता है तो सजा के तामील की तारीख दूर नहीं होगी। मैं नहीं चाहती कि बाद में मरणोपरांत नौतिक कहानी बयां की जाए।’’


जॉन ने उच्च न्यायालय से यह भी कहा कि केंद्र ने उच्चतम न्यायालय में एक याचिका देकर यह स्पष्ट करने का अनुरोध किया है कि क्या सह-दोषियों को अलग-अलग फांसी दी जा सकती है और यह याचिका शीर्ष न्यायालय में लंबित है। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क