सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज भी अरविंद केजरीवाल नही बन पा रहे है!

जयपुर।


               जोड़तोड़ करके अलग अलग समय राजस्थान के तीसरी दफा मुख्यमंत्री बनने वाले अशोक गहलोत आज भी मुख्यमंत्री रहते हमेशा की तरह फिर से कांग्रेस को सत्ता मे लाकर मुख्यमंत्री बनने की सम्भावना वर्तमान समय मे पैदा नही कर पा रहे है। जबकि उनके मुकाबले दिल्ली के मुख्यमंत्री केंद्र सरकारों के भारी राजनीतिक दवाब व पूर्ण राज्य का दर्जा नही होने के बावजूद लगातार तीसरी दफा सोलह फरवरी को दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे है।


                हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केजरीवाल के मुकाबले प्रदेश मे विकास व जनहित की योजनाओं के संचालन का अच्छा रिकॉर्ड कायम किया है। लेकिन उनके व उनकी सरकार द्वारा जनहित मे उठाये कदमो का लगातार पांच साल जनता के मध्य आम चर्चा नही हो पाई। जबकि कांग्रेस पार्टी वर्कर तो उनके उलट प्रचार करने से भी पीछे नही हटे। वो वर्कर स्वयं कहते रहे कि हम तो चुनाव हार रहे है। आगे हमारी सरकार नही आ रही है। वर्कर यहां तक भी कहने से चुकते नही है कि राजस्थान मे तो पांच साल यह व पांच साल वो सरकार। इसके मुकाबले केजरीवाल के वर्कर पूरे पांच साल सरकार द्वारा स्कूल, मोहल्ला क्लिनिक, महिलाओं को मुफ्त बस-मेट्रो सेवा सहित अन्य जनहित कारी कदमो की पूरे पांच साल हर दिन हर जगह लगातार चर्चा करते रहे। अपने हित के मुद्दे को बनाये रखने के साथ ही केजरीवाल की उजली छवि बनाये रखने की भरपूर कोशिश की।


              मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिये बोला जाता है कि वो मुख्यमंत्री बनने की तो खूब कोशिश-जोरतोड़  व जल्दबाजी करते है। लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद कांग्रेस नेताओं व कार्यकर्ताओं के लिये राजनीतिक व संवैधानिक पदो पर की जाने वाली नियुक्तियों मे बहुत ही देरी व कंजूसी बरतते है। जब यह राजनीतिक नियुक्तियां करते है तब तक वो काफी बासी हो जाती है। उससे कार्यकर्ताओं व नेताओं मे सत्ता मे अपनी भागीदारी नही मिलने से उनमे निराशा का भाव पैदा होता है। निराशाजनक स्थिति मे वो उदासी उदासी की बात करते है। उनका सरकार की उपलब्धियों का जनता मे बखान करने का मन नही करता। वो भी दबी जूबान से सरकार ठीक से नही चलने की बात करने लगते है। जिससे सरकार के खिलाफ वातावरण बनने लगता है। उसका परिणाम पार्टी के आगामी चुनाव मे हार का तमगा तैयार होता है। जबकि आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता व नेता हमेशा हरदम सरकार की उपलब्धियों की लगातार चर्चा कर करके सरकार की छवि उजली बनाने पर मेहनत करते रहते है।


 


 


 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका