सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जर्मनी में संदिग्ध दक्षिणपंथी हमले में नौ लोगों की मौत

हनाऊ :: फ्रैंकफर्ट के उपनगरीय इलाके में 43 वर्षीय एक जर्मन नागरिक ने कुछ स्थानों पर गोलीबारी कर नौ लोगों की हत्या कर दी। अधिकारियों ने गुरुवार को कहा कि यह हमला धुर दक्षिणपंथी विचारों से प्रेरित नजर आता है।


बंदूकधारी ने मध्य हनाऊ के एक हुक्का बार में बुधवार रात करीब 10 बजे हमला कर कई लोगों की हत्या कर दी उसके बाद वह वहां से करीब ढाई किलोमीटर पश्चिम की तरफ गया और वहां फिर से गोलीबारी कर कुछ और लोगों की जान ले ली।


हेस्से प्रांत के गृह मंत्री पीटर ब्यूथ ने कहा कि प्रत्यक्षदर्शियों और संदिग्ध जिस गाड़ी से फरार हुआ था उसके सर्विलांस वीडियो की मदद से पुलिस दूसरे वारदात स्थल के पास ही हमलावर के घर तक जल्द ही पहुंच गई जहां वह अपनी 72 वर्षीय मां के साथ मृत पाया गया। ब्यूथ ने कहा कि एक वेबसाइट की जांच की जा रही है जिसके बारे में संदेह है कि वह हमलावर की है।


उन्होंने कहा, ‘‘संदिग्ध के वेबपेज के शुरुआती विश्लेषण से ऐसे संकेत मिले हैं कि वह अनजान भय से प्रेरित था।’’ उन्होंने कहा कि संघीय अभियोजकों ने जांच का जिम्मा संभाल लिया है और इस मामले को घरेलू आतंकवाद की तरह देख रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘यह हमारे स्वतंत्र और शांतिपूर्ण समाज पर हमला है।’’


माना जा रहा है कि कुछ पीड़ित तुर्की के थे और तुर्की के विदेश मंत्री मेवलट केवुसोंगलू ने कहा कि फ्रैंकफर्ट में वाणिज्य दूतावास और बर्लिन स्थित दूतावास हमले के बारे में सूचना जुटाने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने सरकारी टेलीविजन टीआरटी को बताया, ‘‘शुरुआती जानकारी के मुताबिक यह नस्ली मकसद से किया गया हमला था लेकिन हमें (आधिकारिक) बयान का इंतजार करने की जरूरत है।’’


जर्मन समाचार एजेंसी डीपीए ने कहा कि पुलिस एक वीडियो की जांच कर रही है जिसे संदिग्ध ने कुछ दिन पहले पोस्ट किया था जिसमें उसने अमेरिका में बच्चों के उत्पीड़न की एक साजिश का विवरण दिया था। इस वीडियो की प्रमाणिकता की तत्काल पुष्टि नहीं हो पाई है।


वीडियो में नजर आ रहे व्यक्ति, तोबियस आर., के नाम से ही पंजीकृत कराई गई वेबसाइट के मालिक ने कहा कि वह हनाऊ में 1977 में पैदा हुआ और शहर में ही बड़ा हुआ। बाद में उसने एक बैंक में प्रशिक्षण प्राप्त किया और 2007 में अपनी बिजनेस डिग्री पूरी की।  यह हमला जर्मनी में धुर दक्षिणपंथी हिंसा को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच हुआ है। चांसलर एंजेला मर्केल ने गुरुवार को हाल्ले में एक विश्वविद्यालय में अपना प्रस्तावित दौरा रद्द कर दिया।


उनके प्रवक्ता स्टीफन सीबर्ट ने कहा कि वह, ‘‘हनाऊ में चल रही जांच पर लगातार नजर रख रही हैं।’’ हाल्ले में पिछले साल भी एक हमला हुआ था जब एक व्यक्ति ने यहूदी विरोधी नजरिया व्यक्त करते हुए साइनागॉग में गोलीबारी की कोशिश की लेकिन विफल हो गया और गिरफ्तारी से पहले उसने वहां से गुजर रहे दो लोगों को गोली मार दी।


प्रवक्ता ने ट्विटर पर कहा, “आज सुबह मन हनाऊ के लोगों के साथ है, जिनके बीच यह भयानक अपराध किया गया। प्रभावित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना।”


ब्यूथ ने बताया कि हमले में मारे गए लोगों के अलावा एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हुआ है जबकि कई अन्य को भी चोट आई है।


हनाऊ के मेयर क्लाउस कामिंस्की ने ‘बिल्ड’ समाचार पत्र से कहा, ‘‘इससे खराब रात नहीं हो सकती। हम इसमें लंबे समय तक व्यस्त रहेंगे और यह हमेशा एक दुखद याद रहेगी।’’


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।