इंडस टावर्स के साथ विलय को लेकर 24 फरवरी को होगी भारती इंफ्राटेल के निदेशक मंडल की बैठक

नयी दिल्ली, ::  भारती इंफ्राटेल ने शनिवार को कहा कि इंडस टावर्स के साथ विलय के प्रस्ताव को दूरसंचार विभाग की मंजूरी मिलने के बाद आगे के कदमों पर निर्णय लेने के लिये 24 फरवरी को निदेशक मंडल की बैठक होगी।


इस विलय के बाद बनने वाली संयुक्त कंपनी के पास देशभर में 1,63,000 से अधिक दूरसंचार टावर हो जाएंगे, जिनका परिचालन सभी 22 दूरसंचार सेवा क्षेत्रों में हो रहा है। विलय से बनने वाली संयुक्त कंपनी चीन को छोड़ शेष विश्व की सबसे बड़ी टावर कंपनी होगी।


कंपनी ने बीएसई को बताया, ‘‘इंडस टावर्स का भारती इंफ्राटेल के साथ विलय को लेकर प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) मंजूरी कल (शुक्रवार को) देर से मिली।’’


उसने कहा कि कंपनी के निदेशक मंडल की 24 फरवरी को बैठक होगी जिसमें आगे के कदमों के बारे में निर्णय लिये जाएंगे।


इंडस टावर्स में अभी भारती इंफ्राटेल और वोडाफोन समूह की 42-42 प्रतिशत हिस्सेदारी है। इसमें वोडाफोन आइडिया की भी 11.15 प्रतिशत हिस्सेदारी है।


योजना के अनुसार, संयुक्त कंपनी के पास भारती इंफ्राटेल और इंडस टावर्स के कारोबार का पूर्ण स्वामित्व होगा। कंपनी का नाम बदलकर इंडस टावर्स लिमिटेड हो जायेगा और संयुक्त कंपनी घरेलू शेयर बाजारों में सूचीबद्धता जारी रखेगी।


 


टिप्पणियाँ
Popular posts
धोद विधायक परशराम मोरदिया मंत्रीमंडल विस्तार मे मंत्री बनाये जा सकते है।
चित्र
शेखावाटी जनपद के तीनो जिलो के अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों की सक्रियता व विभाग की उदारता के चलते जनपद के अनेक प्रोजेक्ट के लिये अल्पसंख्यक मंत्रालय ने राशि स्वीकृत की।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट के मध्य जारी सत्ता संघर्ष तेज हो सकता है। पायलट सत्ता संघर्ष के लिये ढाल ढाल तो गहलोत पत्ते पत्ते पर घूम रहे है।
चित्र
आसमान छुती पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतो के खिलाफ कांग्रेस ने राजस्थान मे प्रदर्शन किया।
चित्र
सीकर सीमा क्षेत्र में धारा 144 लागू शुक्रवार सायं 5 बजे से सोमवार प्रातः 5 बजे तक जन अनुशासन वीकेड कर्फ्यू रहेगा लॉकडाउन के दौरान (अनुमत श्रेणी के अलावा) किसी भी स्थान पर 5 या 5 से अधिक व्यक्तियों का एकत्रित होना प्रतिबंधित रहेगा