सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दूरसंचार कंपनियों पर लाइसेंस शुल्क का 22,589 करोड़ रुपये बकाया, शेष ब्याज, जुर्माना

नयी दिल्ली, ::  दूरसंचार कंपनियों पर लाइसेंस शुल्क के रूप में 22,589 करोड़ रुपये का बकाया है। जबकि ब्याज और जुर्माने के साथ कुल देनदारी 92,641 करोड़ रुपये बैठती है।


कुल 1.47 लाख करोड़ रुपये के समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) में बड़ा हिस्सा लाइसेंस शुल्क का है। सरकार का यह बकाया दूरसंचार क्षेत्र में परिचालन करने वाली और गैर-परिचालन वाली दोनों तरह की कंपनियों के ऊपर जुलाई 2019 तक का है।


दूरसंचार विभाग के अनुमान के अनुसार लाइसेंस शुल्क के अलावा दूरसंचार कंपनियों पर 55,054 करोड़ रुपये स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क का बकाया है।


सूत्रों के अनुसार दूरसंचार कंपनियां उच्चतम न्यायालय के एजीआर बकाये पर आदेश के अनुपालन को लेकर संघर्ष कर रही है जबकि लाइसेंस शुल्क को लेकर उनकी वास्तविक बकाया देनदारी 22,589 करोड़ रुपये है।


कुल 92,641 करोड़ रुपये लाइसेंस शुल्क बकाये में शेष 74 प्रतिशत राशि ब्याज, जुर्माना और जुर्माने पर ब्याज के कारण है।


दूरसंचार विभाग द्वारा जुलाई 2019 में तैयार आकलन के अनुसार लंबित मूल लाइेंसस शुल्क में से परिचालन कार्य में लगी दूरसंचार कंपनियों पर संयुक्त रूप से 16,746 करोड़ रुपये का ही बकाया है।


भारती एयरटेल पर लाइसेंस शुल्क का बकाया 5,528.52 करोड़ रुपये, वोडाफोन आइडिया पर 6,870.69 करोड़ रुपये, टाटा समूह पर 2,321.31 करोड़ रुपये, टेलीनोर (अब एयरटेल के साथ विलय) 529.02 करोड़ रुपये, बीएसएनएल पर 614 करोड़ रुपये और एमटीएनएल पर 876.39 करोड़ रुपये बैठता है।


एक आधिकारिक सूत्र ने कहा, ‘‘ये अनुमान जुलाई में तैयार किये गये थे। नया आकलन किया जा रहा है।’’


इस बीच, भारती एयरटेल ने लाइसेंस शुल्क और स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क मद में 10,000 करोड़ रुपये, वोडाफोन आइडिया ने 3,500 करोड़ रुपये और टाटा समूह 2,197 करोड़ रुपये भुगतान कर चुके हैं।


एक अन्य सूत्र ने पीटीआई- भाषा से कहा कि दूरसंचार विभाग ने पाया कि सर्किल कार्यालयों ने समान प्रक्रिया नहीं अपनाई और एजीआर बकाया के आकलन में दूरंसचार परिचालकों ने अपने अनुकूल आंकड़े दिये।


दूरसंचार विभाग ने तीन फरवरी को संचार लेखा महानियंत्रक को दिशानिर्देश के साथ पत्र जारी कर एजीआर बकाया का मिलान करने और उन्हें परिचालकों को कटौती के लिये अपील और दस्तावेज देने के लिये 15 दिन का समय देने को कहा गया था।


एक आधिकारिक सूत्र ने कहा, ‘‘लाइसेंस शुल्क या इसके तहत अन्य कोई बकाया के भुगतान में किसी प्रकार की देरी पर ब्याज लगेगा। यह ब्याज एसबीआई के प्रधान उधारी दर से दो प्रतिशत अधिक होगा।’’ इसके अलावा समय पर जरूरी राशि भुगतान नहीं होने पर जुर्माने का भी प्रावधान किया गया था।


दूरसंचार विभाग के कुल बकाया के अनुमानों के अनुसार एयरटेल पर करीब 35,586 करोड़ रुपये बकाया है। इसमें लाइसेंस शुल्क, स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क के साथ बकाया राशि पर जुर्माना और ब्याज शामिल हैं।


वहीं वोडाफोन आइडिया पर करीब 50,000 करोड़ रुपये बकाया हैं। इसी प्रकार टाटा टेलीसर्विसेज पर 11,600 करोड़ रुपये, बीएसएनएल पर 4,989 करोड़ रुपये और एमटीएनएल पर 3,122 करोड़ रुपये का बकाया है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि