सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दवा एवं औषधि क्षेत्र जबरदस्‍त वृद्धि एवं नवाचार का साक्षी: मनसुख मंडाविया

केंद्रीय नौवहन (स्‍वतंत्र प्रभार) और रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि दवा एवं औषधि क्षेत्र जबरदस्‍त वृद्धि एवं नवाचार के दौर का साक्षी रहा है। उन्‍होंने आज यहां कहा, राजस्व और रोजगार दोनों मोर्चे पर दवा एवं औषधि भारत का सबसे बड़ा क्षेत्र है।


    मंडाविया ने कहा कि औषधि क्षेत्र में बड़े एफडीआई को आकर्षित करने के उद्देश्‍य से सरकार नियमित आधार पर एफडीआई नीति की समीक्षा करती है  ताकि एफडीआई नीति को उदार और सरल बनाया जा सके। इस प्रकार कारोबारी सुगमता मुहैया कराने से देश के निवेश वातावरण में सुधार होगा। उन्‍होंने कहा कि ‘मेक इन इंडियाकार्यक्रम के तहत विभिन्‍न उपाए किए गए हैं जिससे निवेश को आसान बनाने, नवाचार को बढ़ावा देने और देश में जबरदस्‍त कारोबारी माहौल तैयार करने को प्रोत्‍साहन मिलेगा।


      वर्ष 2015-16 में दवा एवं औषधि क्षेत्र में एफडीआई इक्विटी का अंतर प्रवाह 4,975 करोड़ रुपये रहा था। लेकिन वह बढ़कर वर्ष 2016-17 में 5,723 करोड़ रुपये और वर्ष 2017-18 में 6,502 करोड़ रुपये हो गया।


      देश के दवा एवं औषधि क्षेत्र में 2014 के बाद प्राप्त एफडीआई निवेश का विवरण निम्‍नलखित है:










































क्रम संख्‍या



वित्‍त वर्ष



कुल एफडीआई निवेश (करोड़ रुपये में)



1.



2014-15



9,052



2



2015-16



4,975



3



2016-17



5,723



4



2017-18



6,502



5



2018-19



1,842



6



2019-20


(अप्रैल से सितंबर)



2,065




 


      सरकार ने जून 2016 में औषधि क्षेत्र के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति में संशोधन किया। इसके जरिए नई औषधि परियोजनाओं के लिए स्‍वचालित मार्ग से 100% एफडीआई और पुरानी औषधि परियोजनाओं के लिए स्‍वचालित मार्ग से 74% एफडीआई और उसके बाद सरकार की मंजूरी से एफडीआई का प्रावधान किया गया।


      एफडीआई काफी हद तक निजी व्यावसायिक निर्णयों का विषय है और एफडीआई प्रवाह विभिन्‍न कारकों पर निर्भर करता है जैसे- प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता, बाजार के आकार, बुनियादी ढांचा, राजनीतिक एवं सामान्य निवेश माहौल के साथ-साथ वृहद-आर्थिक स्थिरता और विदेशी निवेशकों के निवेश निर्णय।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह