दमोह शाहीन बाग़ को हुआ एक माह - CAA , NRC का महिलाएं खुलकर कर रहीं विरोध।


दमोहः केंद्र सरकार द्वारा लाया जा रहा नागरिकता कानून सी ए ए और एन आर सी का देश के कई शहरों में विरोध प्रदर्शन हो रहा है जिसमें महिलाएं और पुरुष वर्ग सड़कों पर आकर विरोध कर रहे है। दमोह में भी लगातार एक माह से महिलाएं नागरिकता क़ानून के खुलाफ़ बीच मैदान में तम्बू  लगाकर बैठी है और इनके विरोध करने का अंदाज सबसे जुदा है। वीडियो जमकर वायरल हो रहे है।दिल्ली के शाहीन बाग़ से दमोह के शाहीन बाग़ तक सिर्फ और सिर्फ इंक्लाबो इंक़लाब के नारे गूंज रहे है ।



मध्यप्रदेश के दमोह का मुर्शिद बाबा का मैदान अब शाहीन बाग़ में तब्दील हो गया है यहाँ भी बीते एक माह से लगातार नागरिकता क़ानून सी ए ए और एन आर सी का विरोध जारी है यहां पर दिन में महिलाएं विरोध करने बैठती है तो शाम होते ही पुरुष वर्ग मोर्चा संभाल लेता है । महिलाएं ना सिर्फ विरोध जताती है बल्कि मंच से बाकायदा संबोधित करते हुए सरकार पर जमकर तंज भी  कसती हैं सैकड़ों की संख्या में यहां वो महिलाएँ विरोध प्रदर्शन का हिस्सा बनी है जिन्होंने इस तरह के प्रदर्शनों में कभी हिस्सा  नहीं लिया । इनकी माने तो ये अपने हक़ के लिए यहां बैठी है और तब तक बैठी रहेगी जबतक सरकार क़ानून वापस नही लेती ।



साथ ही इनके द्वारा लगाए जा रहे नारे भी जमकर वायरल हो रहे है आप भी सुनिये इस लड़की के दिल को छू लेने वाले नारे इनके द्वारा लगाए जा रहे नारों के वीडियो जमकर वायरल हो रहे है । दमोह का मुर्शिद बाबा मैदान अब शाहीन बाग़ में तब्दील हो गया आंदोलन में ऐसे नारे लगाये जा रहे है की आप भी सुनेंगे तो जोश पैदा हो जायेगा।


टिप्पणियाँ
Popular posts
एसीबी सीकर चौकी ने लगातार दुसरे दिन कार्यवाही करके रिश्वत लेते दो भ्रष्टाचारी को अलग अलग मामलों मे रंगे हाथ गिरफ्तार किया।
चित्र
राजस्थान कांग्रेस मे हालात विस्फोटक स्थिति मे पहुंचते नजर आ रहे है।। - गहलोत-पायलट खेमे के मध्य जारी टकराव व एक दुसरे पर दवाब बनाने के चक्कर मे सरकार गिर भी सकती है
चित्र
कोरोना अवेयरनेस कैंप के साथ शिफा होमियोपैथी क्लिनिक की इब्तिदा
चित्र
राजस्थान मे मंत्रीमंडल विस्तार व राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट के मध्य दिग्गज किसान नेता पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी नारायण सिंह भी कुदे। जारी राजनीतिक घमासान के बीच चोधरी ने कहा कांग्रेस को सत्ता में लाने वाले कार्यकर्ताओं को सरकार में मिले जगह।
चित्र
राजस्थान मे तीसरा मजबूत विकल्प अगले आम चुनाव से पहले उभर सकता है। - मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सेवानिवृत्त ब्यूरोक्रेट्स को लाभ के पदो पर लगातार नियुक्ति देने का सीलसीला बनाये रखने से इंतजार मे बैठे जनप्रतिनिधियों का सब्र जवाब देने लगा।
चित्र