सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिए शक्तियों के विकेंद्रीकरण की मांग की

नयी दिल्ली, ::  भारत ने शनिवार को श्रीलंका सरकार द्वारा द्वीपीय देश में अल्पसंख्यक तमिलों के लिए शक्तियों का विकेंद्रीकरण करने की मांग की। साथ ही, यह उम्मीद जताई कि समानता, न्याय और सम्मान पाने की उनकी आकांक्षाएं देश के संविधान के प्रावधानों के मुताबिक पूरी की जाएगी।


श्रीलंका के अपने समकक्ष महिंदा राजपक्षे के साथ व्यापक वार्ता के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुद्दे पर खुल कर चर्चा की गई और आशा है कि तमिल सुलह प्रक्रिया कोलंबो द्वारा आगे बढ़ाई जाएगी।


वार्ता के दौरान दोनों नेताओं ने आतंकवाद रोधी कार्रवाई को मजबूत करने, व्यापार एवं निवेश संबंधों के विस्तार, श्रीलंका में संयुक्त परियोजनाओं के क्रियान्वयन और मानवीय रुख के साथ काफी समय से लंबित मछुआरों के मुद्दे का हल करने जैसे कई प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की।


राजपक्षे ने अपनी टिप्पणी में मोदी सरकार की ‘पड़ोसी प्रथम की नीति’ के लिए और श्रीलंका के साथ संबंधों को उनके प्राथमिकता देने को लेकर उनका शुक्रिया अदा किया।


 


राजपक्षे की पांच दिनों की भारत यात्रा को अहम माना जा रहा है कि क्योंकि श्रीलंका के राष्ट्रपति के तौर पर 2005 से 2015 तक उनके कार्यकाल में हिेंद महासागर स्थित उनके द्वीपीय देश में चीन की उपस्थिति मजूबत हुई थी जिसने भारत की चिंताएं बढ़ा दी थी।


मोदी ने श्रीलंका के विकास में भारत के एक विश्वस्त साझेदार होने का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘श्रीलंका में स्थिरता, सुरक्षा और समृद्धि भारत के साथ ही पूरे हिंद महासागर क्षेत्र के हित में है।’’


उन्होंने कहा कि श्रीलंका के विकास में भारत ‘‘ भरोसेमंद साझेदार’’ रहा है और वह श्रीलंका की शांति और विकास यात्रा में उसकी सहायता करना जारी रखेगा।


लंबे समय से लंबित तमिल मुद्दे पर मोदी ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि श्रीलंकाई संविधान के 13 वें संशोधन को लागू करने की जरूरत है।


तेरहवां संशोधन पड़ोसी देश में तमिल समुदाय के लिए शक्तियों का विकेंद्रीकरण करने का प्रावधान करता है।


मोदी ने कहा, ‘‘हमनें श्रीलंका में सुलह से जुड़े मुद्दों पर बगैर किसी पूर्वाग्रह के साथ चर्चा की। मैं आश्वस्त हूं कि श्रीलंका की सरकार एकीकृत श्रीलंका के भीतर समानता, न्याय, शांति के लिए तमिल लोगों की उम्मीदों को पूरा करेगी।’’


प्रधानमंत्री ने क्षेत्र के लिए आतंकवाद को सबसे बड़ा खतरा बताते हुए श्रीलंका में पिछले साल ईस्टर के दिन हुए आतंकी हमलों का जिक्र किया और कहा कि दोनों देश इस चुनौती से निपटने के लिए सहयोग बढ़ाएंगे।


उन्होंने कहा, ‘‘हम दोनों देशों ने इस समस्या से दृढ़ता से लड़ा है। श्रीलंका में पिछले साल ईस्टर के दिन दुखद एवं बर्बर आतंकी हमले हुए थे।’’


उन्होंने कहा, ‘‘ये हमले न सिर्फ श्रीलंका के लिए बल्कि मानवता के लिए भी एक झटका है। हमारी वार्ता में हमने आतंकवाद रोधी सहयोग मजबूत करने पर चर्चा की। ’’


राजपक्षे ने कहा कि चर्चा का एक हिस्सा दोनों देशों की सुरक्षा सुनिश्चित सुनिश्चित करने के इर्द गिर्द केंद्रित रहा। उन्होंने श्रीलंका को आतंकवाद से लड़ने में मदद के लिए भारत का आभार जताया।


राजपक्षे ने कहा, ‘‘भारत हमारा सबसे करीबी पड़ोसी और काफी पुराना मित्र है। करीबी ऐतिहासिक संबंधों ने हमारे संबंधों को मजबूत बुनियाद दी है।’’


मछुआरे के मुद्दे का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि दोनों देशों ने इसका निपटारा करने के लिए एक मानवीय रुख अपनाने का फैसला किया है।


उन्होंने कहा, ‘‘हमने मछुआरों के मुद्दों पर भी चर्चा की। यह दोनों देशों के लोगों की आजीविका को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। इसलिए हम इस मुद्दे से निपटने के लिए एक रचनात्मक और मानवीय रुख अपनाने पर सहमत हुए हैं।


उल्लेखनीय है कि महिंदा राजपक्षे श्रीलंका के मौजूदा राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे के बड़े भाई हैं और पिछले साल नवंबर में प्रधानमंत्री नियुक्त किए जाने के बाद पहली विदेश यात्रा पर शुक्रवार को पांच दिवसीय यात्रा पर भारत पहुंचे।


विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी श्रीलंका के प्रधानमंत्री से मुलाकात की।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह