सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अंसारी का ऋणी रहेगा भदोही का कालीन उद्योग

लखनऊ, : भारत में कालीन उद्योग को लाने के लिए जिस तरह मुगल बादशाह अकबर का नाम इतिहास में दर्ज है, उसी तरह भारतीय कालीन का परचम दुनिया में लहराने के लिए और कालीन उद्योग में एशिया के सबसे बड़े कालीन मेले के जनक हाजी जलील अहमद अंसारी का नाम भी आने वाली पीढ़ियां इतिहास में पढ़ेंगी ।

अंसारी ने अपनी एक जिद में कालीन मेला लगाने की ठानी और आज उसे इस मुकाम पर पहुंचा दिया, जहां चीन और पाकिस्तान जैसे देशों की सरकारें और वहां कालीन मेला लगाने वाले उनसे भारत के कालीन मेले की सफलता का राज पूछ रहे हैं।

उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के कालीन निर्माता और निर्यातक अट्ठासी साल के जलील अहमद अंसारी के प्रयासों से भदोही में प्रदेश सरकार द्वारा कारपेट एक्सपो मार्ट को आकार दिया गया है। ‘भाषा’ से बातचीत में उन्होंने कहा, "40 साल पहले एक सपना देखा था कि भदोही में कालीन मेला लगाएंगे और वह सपना आज पूरा होते देख रहा हूं।"

अंसारी ने बताया कि घर की माली हालत अच्छी न होने के कारण महज आठ वर्ष की उम्र में वह अपने पिता स्वर्गीय हाजी बिस्मिल्लाह अंसारी के साथ कालीन बनाने के काम में हाथ बंटाने लगे और 1945 में छठवीं कक्षा के बाद उनकी पढ़ाई छूट गई।

कालीन बुनने में उनकी महारत के कारण उन्हें कम उम्र में ही एक कंपनी में मैनेजर बना दिया गया। इस दौरान 1960 में अखिल भारतीय कालीन निर्माता संघ से उनका नाता जुड़ा और 1967 में उन्होंने ‘ताजमहल आर्ट्स’ के नाम से अपनी कंपनी खोली।

भारत में कालीन मेले के सफर के बारे में उन्होंने बताया कि 1980 में दिल्ली के प्रगति मैदान में 10 लोगों को मेला लगाने के लिए बुलाया गया, लेकिन कोई विदेशी आयातक न होने से बड़ी निराशा हुई। इससे नाराज दस पंद्रह लोगों ने खुद कालीन मेला लगाने का संकल्प लिया और 20 लोगों ने अपने पास से पैसा लगाकर ऑल इंडिया कारपेट ट्रेड फेयर कमेटी का गठन कर रजिस्ट्रेशन करा लिया ।

अंसारी ने बताया कि शुरू में कमेटी के ऑफिस के लिए उन्होंने चौरी रोड के अपने घर पर दो बड़े कमरे दिए। इसके बाद 15 लोगों ने देश के अलग अलग शहरों में घूमकर सर्वे किया और दिल्ली के ताज होटल में मेला लगाने का फैसला किया । खुद के पैसे से सभी ने होटल बुक कर उसमें सिर्फ 25 स्टॉल लगाए। हालांकि कई देशों को सूचित और आमंत्रित किए जाने के बावजूद जवाब उत्साहवर्धक नहीं रहा। ताज होटल में दो वर्ष तक मेला लगाया गया । उसके बाद होटल डी पेरिस के लॉन में मेला लगने लगा और धीरे-धीरे विदेशी आयातक आने लगे ।

अंसारी बताते हैं कि साल दर साल मेले की लोकप्रियता बढ़ने लगी तो अखिल भारतीय कालीन निर्माता संघ के अनुरोध पर केंद्र सरकार के कपड़ा मंत्री ने कालीन के निर्यात को बढ़ावा देने की दिशा में पहल की और दिल्ली के प्रगति मैदान में बड़े पैमाने पर मेला लगने लगा । अंसारी बताते हैं, ‘‘नब्बे के दशक में मेला खासा लोकप्रिय हो गया और जब मैं कमेटी का चेयरमैन बना तो यह विचार सामने आया कि क्यों ना यह मेला भदोही में लगाया जाए और इस उद्देश्य से भदोही में कारपेट एक्सपो मार्ट बनना खुशी की बात है और अब बस अक्टूबर में मेले के आयोजन का बेसब्री से इंतजार है।’’

अंसारी का कहना है कि भारत का कालीन निर्यात 1960 में 436 करोड रुपए से शुरू होकर 2020 में 10,000 करोड़ रुपए का आंकड़ा पार कर चुका है । हालांकि अंसारी को उम्मीद है कि गंभीर प्रयासों से इस आंकड़े को जल्द दोगुना किया जा सकता है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका