सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अभिनय से पैसे कमाना संघर्ष था: जितेंद्र कुमार

नयी दिल्ली,:: फिल्म “शुभ मंगल ज्यादा सावधान” में मुख्य भूमिका निभा रहे जितेंद्र कुमार कहते हैं कि भौतिक विज्ञान पढ़ाकर अच्छी कमाई को छोड़कर अभिनय की दुनिया में कदम रखने के लिए सही समय चुनना ही बहुत बड़ा संघर्ष था। अब बालीवुड फिल्म में मुख्य किरदार निभाने का उनका सपना पूरा हो रहा है।


आईआईटी खड़गपुर से स्नातक जितेंद्र कुमार पहले एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनना चाहते थे लेकिन कालेज में सिविल इंजीनियरिंग से उन्हें समझौता करना पड़ा। इन सब के बाद भी उनका दिल कहीं और रमा था।


जितेंद्र ने पीटीआई भाषा से कहा, “ मैं एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनना चाहता था। लेकिन मेरी रैंक अच्छी नहीं थी इसलिए मुझे सिविल इंजीनियरिंग मिला। वहीं पढ़ाई में मेरी दिलचस्पी खत्म हो गई। अगर आप अपने इंजीनियरिंग क्षेत्र को लेकर उत्साहित नहीं हो तो आप एक अच्छे इंजीनियर नहीं बन सकते।”


खराब इंजीनियर बनने की सूरत में उन्होंने अपने पर ही हंसते हुए कहा, “क्यों पुल गिराऊं मैं?”


उसके बाद उन्होंने अभिनय की दुनिया में कदम रखा। 2012 में वे द वायरल फीवर चैनल से जुड़ गए और अपना गुजारा चलाने के लिए भौतिकी का ट्यूशन देन लगे।


टीवीएफ में वे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की नकल कर और “परमानेंट रूममेट्स” में गिट्टू की भूमिका निभाकर लोगों के चहेते बन गए।


उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता था कि मैं भौतिकी अच्छे से पढ़ा सकता हूं, इसलिए ट्यूशन से पैसा कमाना कोई संघर्ष नहीं था। अभिनय से पैसे कमाना संघर्ष था। उसके बाद अभिनय के अच्छे मौके पाना और अपने फैसले पर कायम रखने के लिए संघर्ष करना पड़ा।”


2015 में आयी “पिचर्स” से जितेंद्र ने पैसे कमाना शुरू किया और फिर उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।


“शुभ मंगल ज्यादा सावधान” में वह आयुष्मान खुराना के समलैंगिक प्रेमी की मुख्य भूमिका में हैं। फिल्म की कहानी भारत के छोटे कस्बे में बुनी गई है।


जितेंद्र ने कहा कि फिल्म में उनका किरदार अमन अपने प्रेमी कार्तिक(आयुष्मान) के कारण खुद के समलैंगिक होने को स्वीकार लेता है लेकिन अपने रूढ़ीवादी परिवार के सामने इस बात को नहीं रख पाता।


फिल्म में जितेंद्र और आयुष्मान का किसिंग सीन भी चर्चा में है।


जितेंद्र को लगता है कि लोगों को सीन के बारे में सुन कर झटका लग सकता है लेकिन जब फिल्म में लोग यह देखेंगे तो उन्हें वह रोमांटिक लगेगा।


उन्होंने कहा, “पहले जब किसी युगल को पर्दे पर किस करते देखते थे तो भी विवाद उठ खड़ा होता था जैसे सालों पहले फिल्म “राजा हिंदुस्तानी के समय हुआ था। जब भी कोई ऐसा सीन आता तो कोई खांसने लगता, मम्मी उठकर किचेन में चली जाती। बहुत असहज सी स्थिति हो जाती थी।”


उन्होंने कहा, “अब लोग वैसे दृश्य अपने मां-बाप के साथ भी देख सकते हैं। इस तरह से धीरे-धीरे चीजें बदली हैं। समय के साथ यह सब सामान्य हो गया है। यह पहला कदम है और मैं आशा करता हूं कि लोग फिल्म में इस ‘किस’ को भी सामान्य ढंग से लेंगे।”


जितेंद्र ने कहा कि “प्यार कोई समस्या या मुद्दा नहीं है जैसा समाज ने इसे बना दिया है। हम दो अलग जातियों में, अलग धर्म में, समान लिंग के लोगों से प्यार करने से रोकते हैं। लेकिन हम अपराधों को आसानी से भूल जाते हैं, प्रदूषण फैलाने वालों को कोई नहीं रोकता।”


उन्होंने कहा, “लेकिन जब प्यार की बात आती है तो लोग उसका मुद्दा बना देते हैं। ये स्वीकार करने लायक नहीं है। प्रेम लेने-देने में भरोसा रखें। इसके अलावा भी बहुत सारे मुद्दे हैं जिनपर ध्यान देने की जरूरत है।”


हितेश कैवल्य निर्देशित फिल्म शुक्रवार को रिलीज होगी।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।