आखिरकार मुख्यमंत्री गहलोत सहित कांग्रेस नेता भी सीएए-एनआरसी व एनपीआर के विरोध मे राजस्थान मे चल रहे आंदोलन स्थल शाहीनबाग पहुंचे।


जयपुर।


                सीएए-एनपीआर व एनआरसी के खिलाफ राजस्थान मे जगह जगह चल रहे आंदोलन के तहत आंदोलन स्थल को शाहीनबाग नाम देकर पीछले एक महिने से दिल्ली के शाहीनबाग की तर्ज पर महिलाओं द्वारा राजस्थान मे भी आंदोलन किया जा रहा है। लेकिन इन आंदोलनों मे अब तक राजस्थान कांग्रेस के नेताओं की शिरकत नही होने से अनेक सवाल उठ खड़े हो रहे थे। आखिरकार जयपुर के शाहीनबाग मे शाम को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पहुंच कर मोजूद लोगो को सम्बोधित करते हुये केंद्र सरकार को घेरा। वही बीकानेर मे इसी तरह चल रहे धरने मे पूर्व ग्रह मंत्री विरेंद्र बेनीवाल, लोकसभा उम्मीदवार रहे मदन मेघवाल, विधायक गोविंद मेघवाल सहित अनेक कांग्रेस नेता भी शामिल हुये।


           जयपुर के शाहीनबाग मे उपस्थित धरनार्थी महिलाओं को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने सम्बोधन मे विश्वास दिलाते हुये कहा कि केंद्र सरकार दैश मे अराजकता का माहोल पैदा कर रही है लेकिन आप घबराये नही अवल तो डिटेंशन सेंटर मे कोई जायेगा नही अगर जायेगा तो मै स्वयं आपके साथ जाऊंगा। दूसरी बीकानेर शहर मे भी उक्त मामले के लेकर धरना दिया गया जिसमे कांग्रेस नेता व पूर्व ग्रह मंत्री वीरेंद्र बेनीवाल, विधायक गोविंद मेघवाल व लोकसभा उम्मीदवार मदन मेघवाल सहित अनेक कांग्रेस नेताओं ने भी भाग लिया।


                   राजस्थान मे उक्त मामले को लेकर जगह जगह महिलाओं के शाहीनबाग बनाकर विरोध करना शुरू करने के बाद जेएनयू व जामीया के स्टूडेंट्स लीडर के अतिरिक्त वामपंथी नेताओं का शूरु से लगातार आना जारी रहा। लेकिन कांग्रेस के अल्पसंख्यक नेताओं के अलावा अन्य नेताओं का आना नही होने से विभिन्न समाचार पत्रो व सोशल मीडिया पर अनेक सवाल खड़े हो रहे थे। आखिरकार आज मुख्यमंत्री सहित कांग्रेस नेता जयपुर व बीकानेर मे शामिल होने के बाद अब लगने लगा है कि अन्य जगह चल रहे शाहीनबाग मे भी वहां के स्थानीय कांग्रेस नेता व विधायक गण शिरकत करेगे।


टिप्पणियां
Popular posts
डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन
इमेज
किसान महापंचायतों के बहाने कांग्रेस चारो उपचुनाव को साधना चाह रही है।
राजस्थान के चार विधानसभा उपचुनाव मे कांग्रेस का गहलोत-पायलट के मध्य का अंदरुनी झगड़ा नुकसान पहुंचायेगा। - मुस्लिम युवाओं की गहलोत सरकार से नाराजगी भी संकट खड़ा करेगी। - भाजपा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद भाजपा की मजबूती का ठीक से आंकलन होगा।
आसाम-बंगाल आम चुनावो के साथ राजस्थान के होने वाले चार उपचुनावो के बाद गहलोत सरकार गिराने की फिर कोशिश हो सकती है! - पायलट समर्थक प्रदेश भर मे किसान महापंचायते आयोजित करके अपना जनसमर्थन बढा रहे है।
उर्दू तालीम और मदरसा तालीम की हिमायत में सुजानगढ़ मे आमसभा हुई। - गहलोत सरकार को ललकारते हुए उप चुनाव में कांग्रेस को हराने का हुआ प्रस्ताव पास ।
इमेज