सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी कल भी प्रासंगिक थे, आज भी हैं और आगे भी रहेंगेः अजय कुमार लल्लू


लखनऊ, : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की 72वीं पुण्यतिथि पर आज यहां प्रदेश कांगे्रस मुख्यालय में प्रातः 11.00बजे दो मिनट मौन रहकर सबसे पहले गांधी जी की पुण्य स्मृति को नमन किया गया तदुपरान्त गांधी जी के चित्र पर माल्यार्पण और पुष्प अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गयी।


  इसके उपरान्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू की अध्यक्षता में ‘‘आज का भारत और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के विचार’’ विषय पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी का संचालन श्री बृजेन्द्र कुमार सिंह ने किया।


संगोष्ठी में अध्यक्षीय सम्बोधन में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी ने गांधी जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी आज के ही दिन 30 जनवरी 1948 को सरीर छोड़कर चले गये लेकिन वह हमेशा जिन्दा थे और जिन्दा रहेंगे। वह जिन्दा हैं हममें, आपमे, कंाग्रेस में और हमारे विचारों में। वह अपने युग के महामानव  थे। यही कारण है कि समूची दुनिया उन्हें सत्य, अहिंसा और लोकतंत्र के पुजारी के रूप में पूजती और स्वीकार करती है। वह समाज के सभी वर्गों के समानता के हिमायती रहे। उनकी सोच पर आधारित बना संविधान ही हम सबको न्याय के समक्ष बराबरी का अधिकार देता है और उनके बताये गये तीन अमूल्य हथियार सत्याग्रह-अर्थात सत्य के प्रति आग्रह, जो आजादी के आन्दोलन के दौरान सुदूर पिछड़े क्षेत्र के किसानों को जो नील की खेती से तबाही और बर्बादी के दौर में थे अपने साथ खड़ा पाता है और उस अंग्रेजी हुकूमत का सत्य के प्रति आग्रह के मजबूत हथियार से गांधी जी ने न केवल उन बर्बाद किसानों को बचाकर जीवनदान दिया अपितु तानाशाही हुकूमत को झुकने के लिए विवश किया। दूसरा सबसे बड़ा हथियार सविनय अवज्ञा-अर्थात विनय पूर्वक सरकार के गलत कानून को मानने से इंकार कर देना, जो रौलट एक्ट और नमक कानून के खिलाफ गांधी जी द्वारा प्रयोग किया गया। तीसरा सबसे बड़ा हथियार कि जब सरकार पूरी तरीके से निरंकुश हो जाए, सत्याग्रह और सविनय अवज्ञा निष्प्रभावी साबित हो, तब महान जनता से करो या मरो का आवाहन, जो वर्ष 1942 के भारत छोड़ो आन्दोलन के दौरान प्रयोग में लाया गया और अंग्रेजी हुकूमत का अन्त हो गया। आज भी सत्य, अहिंसा के रास्ते पर चलकर बड़ी से बड़ी लड़ाई जीतने का पूरी दुनिया का सबसे बड़ा हथियार है यही कारण है कि संयुक्त राष्ट्र संघ राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की जयन्ती (02अक्टूबर) को सत्य और अहिंसा दिवस के रूप में पूरी दुनिया में मनाता है।


प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि गांधी जी अछूतोद्धार की बात करते हैं वह भारत में निवास करने वाले अंतिम आदमी के चेहरे पर मुस्कार देखना चाहते हैं। वह ग्राम स्वराज की बात करते हैं और कहते हैं कि असली भारत तो गांव में रहता है यही कारण रहा कि पं0 जवाहर लाल नेहरू से लेकर डा0 मनमोहन सिंह तक कांग्रेस के सभी प्रधानमंत्री और सरकारों ने गांधीवादी मूल्यों पर चलकर भारत को मजबूत किया और उनके ग्राम स्वराज के सपने को अंतिम व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान की परिकल्पना को साकार करने का काम किया। पंचायतों, स्थानीय निकायों को आर्थिक अधिकार देकर समाज के हर वर्ग अनु0जाति, जनजाति, पिछड़ा वर्ग और महिलाओं को पंचायत से लेकर संसद तक आरक्षण सुनिश्चित करके उनकी भागीदारी तय की। वहीं सरकारी विद्यालयों में मध्यान्ह भोजन, वंचित, शोषित और गरीब बच्चों को छात्रवृत्ति, उच्च शिक्षा एवं व्यवसायिक परीक्षाओं की तैयारी हेतु निःशुल्क कोचिंग, महात्मा गांधी रेाजगार गारंटी कानून, भोजन का अधिकार, वन का अधिकार, शिक्षा का अधिकार आदि तमाम कानून बनाकर कांग्रेस की सरकारों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपनों को मूर्त रूप देने के लिए ऐतिहासिक कार्य किये।


अन्त में प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष ने कहा कि आज जब समूचा देश सरकार के संविधान विरोधी और जनविरोधी कानून से उद्वेलित है और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के सविनय अवज्ञा के हथियार से आन्दोलन कर रहा है तो सरकार को चाहिए कि उन लोगों से संवाद स्थापित करे और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के प्रति सम्पूर्ण दुनिया जिस कृतज्ञ भाव से उन्हें याद कर रहा है उनके मूल्यों को याद कर रहा है, उससे पे्ररणा लेकर देश में लागू किए गए असंवैधानिक कानून(सीएए-एनआरसी) को वापस ले। यही आज के दिन गांधी जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।


इस अवसर पर संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए बाराबंकी से पूर्व लोकसभा प्रत्याशी श्री तनुज पुनिया ने कहा कि गांधी जी की सामाजिक समरसता और अछूतोद्धार के प्रयास से ही अखण्ड भारत का निर्माण हुआ। क्येांकि वह समाज के सबसे अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति केा मजबूत देखना चाहते थे उसके चेहरे पर खुशहाली देखना चाहते थे।


उ0प्र0 कांग्रेस खेलकूद प्रकोष्ठ के चेयरमैन श्री अरशी रजा ने गांधी जी के सबको सुनने और सबको साथ लेकर चलने के विचार को आजादी के बाद सबसे भरोसे एवं भावना के साथ स्वीकार करने को देश की एकता का आधार बताया। उन्होने कहा कि यही कारण है कि भारत का लोकतंत्र गांधी जी के मूल्यों से दिन-प्रतिदिन और अधिक मजबूत होकर निखर रहा है।


श्री संदीप वर्मा ने गांधी जी और डा0 आम्बेडकर के पूना पैक्ट को भारत की एकता-अखण्डता का आधार बताते हुए कहा कि गांधी जी अकेले महामानव थे जो हजारों वर्ष की गुलामी के बाद स्वतंत्र होने वाले देश को कैसे एकजुट रखकर आगे बढ़ा जा सकता है उनके विचार कल भी प्रासंगिक थे और आज बहुत जरूरी है।


प्रदेश कांग्रेस के सचिव श्री ब्रहमस्वरूप सागर ने गांधी जी को दलितों का भगवान बताया। उनकी सोच ही थी कि आज पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक समाज का सबसे वंचित, दोहित और पिछड़ा समाज खुद को मुख्यधारा में और गौरवान्वित महसूस कर रहा है।


संगोष्ठी में प्रमुख रूप से पूर्व विधायक श्री श्यामकिशोर शुक्ल एवं श्री सतीश अजमानी, प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी प्रशासन श्री सिद्धार्थ प्रिय श्रीवास्तव, श्री अनूप गुप्ता, श्री वीरेन्द्र मदान, श्री मुकेश सिंह चैहान, श्री जे0पी0 मिश्रा, चैधरी सत्यवीर सिंह, श्री पंकज तिवारी, श्री प्रदीप कनौजिया, श्री दिनेश सिंह, श्री अनीस अंसारी, श्री रमाशंकर द्विवेदी, श्री सुभाष मिश्रा, श्री बी.डी. सिंह, श्री उबैदउल्लाह नासिर, श्री वेद प्रकाश त्रिपाठी, श्री संजय सिंह, श्री हरनाम सिंह चैहान, श्री आलोक सिंह रैकवार, श्री संतोष सिंह, श्री मनोज तिवारी, श्रीमती रफत फातिमा, श्रीमती प्रियंका गुप्ता, डा0 शहजाद आलम, श्री पुष्पेन्द्र श्रीवास्तव, श्री राकेश पाण्डेय, श्री विवेक श्रीवास्तव, श्री नीरज तिवारी, श्री विकास श्रीवास्तव, श्री श्रीराम यादव सहित सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसजन मौजूद रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रभारी महामंत्री अजय माकन के राजस्थान के फीडबैक कार्यक्रम मे पीसीसी सदस्य शरीफ की आवाज से कांग्रेस  हलके मे हड़कंप।

  जयपुर।             राजस्थान के नव मनोनीत प्रभारी कांग्रेस के राष्ट्रीय महामंत्री अजय माकन द्वारा प्रदेश के अलग अलग सम्भाग के फीडबैक कार्यक्रम के तहत 10-सितंबर को जयपुर सम्भाग के जिलेवार फीडबैक लेने के सिलसिले मे सीकर जिले के नेताओं व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिये जाते समय पीसीसी सदस्य मोहम्मद शरीफ द्वारा मुस्लिम समुदाय के सम्बन्धित सवाल खड़े करने के साथ माकन को दिये गये पार्टी हित मे उनके सुझावों के बाद वायरल उनके वीडियो से राजस्थान की कांग्रेस राजनीति मे हड़कंप मचा हुवा है।                    कांग्रेस कार्यकर्ता मोहम्मद शरीफ ने प्रभारी महामंत्री अजय माकन, अचानक बने प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा व प्रभारी सचिव एवं अन्य सीनियर नेताओं की मोजूदगी मे कहा कि मुस्लिम समुदाय चुनावो के समय बडी तादाद मे कांग्रेस के पक्ष मे मतदान करके कांग्रेस सरकार के गठन मे अहम किरदार अदा करता है। लेकिन सरकार बनने के बाद उन्हे सत्ता मे उचित हिस्सेदारी नही मिलती है। प्रदेश मे कांग्रेस के नो मुस्लिम विधायक होने के बावजूद केवल मात्र एक विधायक शाले मोहम्मद को मंत्री बनाकर उन्हें अल्पसंख्यक मंत्रालय तक सीमित करके र

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि