राजस्थान मे मई के अंत तक अनेक राजनीतिक व सवैधानिक पदो पर नियुक्ति होने की सम्भावना।

जयपुर।
            राजस्थान से 26-मार्च को तीन राज्य सभा सदस्यों के चुनाव मे मतदान होने से पहले स्थगित हो जाने के बाद अब मई आखिर मे मतदान की तिथि की आने की सम्भावना जताई जा रही है। जबकि तीन सीटो के लिए होने वाले उक्त चुनाव मे दो कांग्रेस के व दो भाजपा की तरफ से उम्मीदवार के अपने पर्चे दाखिल कर चुकने के बाद पर्चा वापिस लेने का समय गुजर चुका था। अब मात्र सदस्य चुनने के लिए मतदान होना बाकी है। इसी के साथ खबर आ रही है कि मुख्यमंत्री स्तर पर होने वाली अधीकांश राजनीतिक नियुक्तियों पर होम वर्क पुरा कर लिया बताते है। इन नियुक्तियों मे सभी तरह के संवेधानिक पदो पर होने वाली राजनीतिक नियुक्तियों की घोषणा राज्य सभा चुनाव के तूरंत बाद की जा सकती है। जबकि समाज कल्याण विभाग के सम्बंधित कुछ नियुक्तियों के आदेश लोकडाऊन मे भी जारी हो चुके है।
           आने वाली खबरो के मुताबिक राजस्थान लोकसेवा आयोग के रिक्त चल रहे चार सदस्यों पर नियुक्ति के अलावा राज्य मानवाधिकार आयोग, लोकायुक्त, महिला आयोग, राज्य पुलिस जवाबदेय समिति, अल्पसंख्यक आयोग, सूचना आयुक्तों सहित कुछ अन्य संवैधानिक पदो पर नियुक्तियों के आदेश जारी हो सकते है। संवैधानिक पदो पर नियुक्तियों के बाद अन्य राजनीतिक नियुक्तियों का सीलसीला जारी होगा जिसमे बोर्ड-निगम-आयोग व समितियों के गठन होगा।
                कुल मिलाकर यह है कि कोराना महमारी व लोकडाऊन के मध्य राजनेताओं व सामाजिक कार्यकर्ताओं के लिये एक अच्छी खबर निकल कर आ रही है कि राजस्थान मे जल्द ही राजनीतिक नियुक्तियों का पिटारा खुलने वाला है। खबरो के मुताबिक अधीकांश पदो पर होमवर्क मुकम्मल कर लिया बताते है। समय अनुसार नियुक्तियों की घोषणा का सीलसील जारी होगा।


Popular posts
सीकर मे पचपन किलोमीटर पैदल यात्रा करके मुख्यमंत्री का पुतला दहन किया। - निकाली गई मुख्यमंत्री गहलोत की शव यात्रा (जनाजा यात्रा) क्षेत्र मे चर्चा का विषय बनी।
चित्र
बेरीस्टर असदुद्दीन आवेसी को महेश जोशी द्वारा भाजपा ऐजेंट बताने की कायमखानी ने कड़ी निंदा की।
राजस्थान की राजनीति मे कांग्रेस-भाजपा के अतिरिक्त आगामी विधानसभा चुनावों मे तीसरे विकल्प की सम्भावना बनती दिखाई दे रही है। - कोटा नगर निगम चुनाव मे वेलफेयर पार्टी व एसडीपीआई के उम्मीदवार विजयी होने से हलचल।
जुलाई-19 मे मदरसा पैराटीचर्स के जयपुर मे चले बडे आंदोलन की तरह दांडी यात्रा का परिणाम आया।
चित्र
मुस्लिम समुदाय की नाराजगी से राजस्थान के पंचायत चुनाव मे कांग्रेस को मुश्किलातों का सामना करना पड़ सकता है।