पाक विस्थापित लोगो के लिये राशन सामग्री की कोई कमी नही रहेगी।


जयपुर।
            राजस्थान के किसी भी जिले में रह रहे पाक विस्थापित जरूरतमंद परिवारों को राशन सामग्री उपलब्ध कराने में कोई कमी नहीं रखने की बात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दोहराई है। 
             इस विषय में सीमांत लोक संगठन के अध्यक्ष हिन्दू सिंह सोढ़ा का पत्र मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि पाक विस्थापित परिवारों को राशन सामग्री समय पर मिले यह सुनिश्चित किया जाए। सोढ़ा ने अपने पत्र में अवगत कराया था कि प्रदेश के विभिन्न जिलों में करीब 6 हजार पाक विस्थापित परिवार रह रहे हैं, उनमें से कई जरूरतमंद परिवारों को लॉकडाउन के चलते राशन सामग्री की आवश्यकता है। 
इस सम्बन्ध में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए थे, जिस पर सम्बन्धित जिलों के कलेक्टर्स से रिपोर्ट मांगी गई थी। कलेक्टर्स द्वारा भेजी गई रिपोर्ट के अनुसार जयपुर जिले के जामड़ोली, गोविन्दपुरा एवं मांग्यावास में रह रहे 500 पाक विस्थापित परिवारों से जिला प्रशासन संपर्क में है एवं इन परिवारों को राशन सामग्री वितरित की जा रही है। जोधपुर जिले में 618 पाक विस्थापित परिवारों एवं जरूरतमंदों को राशन सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। साथ ही अतिरिक्त जिला कलेक्टर (द्वितीय) महिपाल कुमार को सीमांत लोक संगठन के अध्यक्ष सोढ़ा के सम्पर्क में रहने के निर्देश सरकार द्वारा दिए गए हैं।
              बाड़मेर जिले की शिव और चौहटन पंचायत समिति में करीब 200 पाक विस्थापित परिवारों, पाली जिले में रह रहे 92 परिवारों, बीकानेर जिले की पूगल एवं बज्जू तहसील में रह रहे 93 परिवारों को उनकी मांग के अनुसार राशन सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। इन जिलों के साथ ही जैसलमेर, जालौर एवं सिरोही जिलों में रह रहे पाक विस्थापित परिवारों को राशन सामग्री के साथ ही वित्तीय सहायता के लिए पात्र परिवारों को अनुग्रह राशि भी वितरित की जा रही है। साथ ही
निर्देश दिए गये है कि ऐसे जरूरतमंद पाक विस्थापित परिवार जो किसी भी सामाजिक सुरक्षा योजना के दायरे में नहीं आ रहे हैं, उन्हें राशन सामग्री के किट पहुंचाए जाएं।


टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
राजस्थान मे एआईएमआईएम की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी। कांग्रेस से जुड़े नेताओं मे बेचैनी। - उपचुनाव मे एआईएमआईएम के गठबंधन के उम्मीदवार खड़े करने को लेकर कयास लगने लगे।
इमेज
सांसद असदुद्दीन आवेसी की एआईएमआईएम व पोपुलर फ्रंट के प्रभाव से मुकाबले को लेकर कांग्रेस ने राजस्थान मे अपनी मुस्लिम लीडरशिप व संस्थाओं को आगे किया।
राजस्थान वक्फ बोर्ड का आठ मार्च को कार्यकाल पूरा होने को है, लेकिन सदस्यों के लिये चुनावी प्रक्रिया अभी शुरु नही हुई। - नये चुनाव के लिये सरकारी स्तर पर हलचल पर प्रशासक लगने के चांसेज अधिक बताये जा रहे है।
इमेज
लखनऊ पब्लिक स्कूल की स्थानीय शाखा में छात्र-छात्राओं एवं उनके माता-पिता व अभिभावकों के साथ काउंसलिंग संपन्न हुई।
इमेज