सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रदेश में पंजीकृत 24 गौशालाओं में संरक्षित गौवंश के भरण-पोषण हेतु 57223978 रुपये स्वीकृत

लखनऊः  उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश में पंजीकृत 24 गौशालाओं में संरक्षित गौवंश के भरण-पोषण हेतु 57223978 रुपये स्वीकृत किये है। इस संबंध में आज विशेष सचिव, पशुधन  एन0पी0पाण्डेय द्वारा आवश्यक शासनादेश जारी किया गया है।
      शासनादेश के अनुसार मथुरा जनपद की सुरभी श्याम गोशाला, भगवती सेवा समि तथा सीरिया की नगरिया के लिए 689850 रुपये, कानपुर नगर के मोहन गोपाल गोशाला समिति के लिए 2266650 रुपये तथा श्रवास्ती जनपद के शिव बालक गोस्वामी गौशाला के लिए 2238180 रुपये स्वीकृत किये गये हैं। इसी प्रकार गोपाल गोशाला मेरठ को 5529750 रुपये, पंचायती गोशाला हापुड़ को 17499195 रुपये, कानपुर नगर के श्री राम भरोसा जनकल्याण एवं गोशाला समिति को 260610 रुपये तथा श्री गौरक्षणी सभी गौशाला फर्रूखाबाद को 843150 रुपये दिये गये है।
इनके अलावा फर्रूखाबाद के बृज गोशाला समिति को 2184525 रुपये, श्याम गोसेवा सदन गोरखपुर को 273750 रुपये, बुलन्दशहर स्थित श्री नारायणा गोशाला को 1073100 रुपये, हरदोई की श्री गोपाल गोशाला को 1456350 रुपये एवं झांसी के श्री राघव गौ संवर्धनशाला को 1839600 रुपये प्रदान किये गये है। इसी प्रकार गाजीपुर के बाबा गोरखनाथ गोशाला को 229950 रुपये, बागपत के दयोदय तीर्थ आचार्य विद्यासागर पशु संरक्षण केन्द्र को 1839600 रुपये, गोपाल गोशाला रायबरेली को 295650 रुपये, श्री पंचायती गोशाला मथुरा को 10140795 रुपये, स्व0 टीकम सिंह गोशाला को अमरोहा 597870 रुपये, ओम गोशाला समिति हमीरपुर को 4204800 रुपये, श्रीमति किरन सिंह स्मृति गौशाला रायबरेली को 1103760 रुपये, श्री वृन्दावन गोशाला अमरोहा को 448950 रुपये, पं0 हंसराज शर्मा गोसेवा समिति अलीगढ़ 522648 रुपये, अभिलाषा गोशाला जालौन को 459900 रुपये, ऋषि गोशाला अमरोहा को 206995 रुपये तथा रामकुटी गौशाला कानुपर देहात को पशुओ के भरण-पोषण हेतु 1018350 रुपये प्रदान किये गये है।। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका