उप्र विधानसभा का बजट सत्र गुरूवार से

लखनऊ, : उत्तर प्रदेश विधानसभा के गुरूवार से शुरू हो रहे बजट सत्र से पहले अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने बुधवार को सर्वदलीय बैठक बुलाकर सभी राजनीतिक दलों से सदन को सुचारू रूप से चलाने में सहयोग मांगा ।

विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना और पार्टी विधायक उज्जवल रमण सिंह बैठक में शामिल हुए । बजट सत्र राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करने के साथ शुरू होगा । बजट 18 फरवरी को पेश किया जाएगा ।

उत्तर प्रदेश सरकार इस सत्र के दौरान जहां डिफेंस एक्सपो सहित अपनी विभिन्न उपलब्धियां गिनाने की तैयारी में है, वहीं विपक्ष सरकार को रोजगार और कानून व्यवस्था के मुद्दे पर घेरने की सोच रहा है ।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक बयान में कहा कि कांग्रेस बजट सत्र के दौरान जनता से जुडे मुद्दे उठाएगी । इनमें आवारा पशु, कानून व्यवस्था, महिलाओं के प्रति अपराध और बढ़ती बेरोजगारी शामिल हैं ।

प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए लल्लू ने कहा ‘‘उत्तर प्रदेश सरकार को राज्य की जनता की चिन्ता नहीं है । सरकार ने इन्वेस्टर समिट करायी । उसे बताना चाहिए कि प्रदेश में कितने निवेशक आये और रोजगार के कितने अवसर पैदा हुए । सरकार को आंकडे देने चाहिए ।’’

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार को आम आदमी की समस्या से कोई लेना देना नहीं है ।

लल्लू ने मांग की कि संशोधित नागरिकता कानून :सीएए: के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर दर्ज झूठे मुकदमे वापस लिये जाने चाहिए ।


टिप्पणियां
Popular posts
सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।
इमेज
किसान नेता राकेश टिकेत पर हमले के खिलाफ राजस्थान के किसानों मे आक्रोश।
इमेज
राजस्थान मे ब्यूरोक्रेसी मे बडा फेरबदल -- सड़सठ भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के तबादले। - जाकीर हुसैन को श्रीगंगानगर जिला कलेक्टर के पद पर लगाया।
इमेज
इंशाअल्लाह सीकर से सर सैयद अहमद खां वाहिद चोहान जल्द स्वस्थ होकर अस्पताल से हमारे मध्य लोटकर फिर महिला शिक्षा को ऊंचाई देगे।
इमेज
राजस्थान मे उधोगों की सुगमता स्थापना तथा निवेश को बढावा देने की घोषणाओं पर अमल शुरू।