सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोल इंडिया की सहायक कंपनी (नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड) ने नवाचार और अनुसंधान एवं विकास को बढ़ावा देने के लिए ‘साईंस एंड एप्‍लाइड रिसर्च एलायंस एंड सपोर्ट’ (एसएआरएएस) की स्थापना की

कोल इंडिया की प्रमुख सहायक कंपनी एनसीएल ने कंपनी की परिचालन दक्षता में सुधार लाने और संसाधनों का अधिकतम उपयोग करने के साथ-साथ नवाचार, अनुसंधान और विकास तथा कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए "साईंस एंड एप्लाइड रिसर्च एलायंस एंड सपोर्ट" (एसएआरएएस) नामक केंद्र की स्थापना की है एनसीएल के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री प्रभात कुमार सिन्हा ने आज नई दिल्ली में विश्‍व उत्‍पादकता विज्ञान परिसंघ द्वारा कोयला, विद्युत, इस्‍पात और एमएसएमई क्षेत्रों पर विशेष ध्‍यान केन्‍द्रीत करते हुए एक नवाचार जनित उत्‍पादकता पर आयोजित राष्‍ट्रीय सेमिनार में भारतीय कोयला क्षेत्र के इस अग्रणी कदम के बारे में घोषणा की।


श्री सिन्हा ने कहा कि एसएआरएएस कोयला उत्पादन, उत्पादकता और सुरक्षा बढ़ाने के लिए नवाचार एकीकरण और अनुसंधान में कंपनी की मदद करेगा और इसे सक्षम बनायेगा। कंपनी ने आईआईटी (बीएचयू) के सहयोग से एक समर्पित अनुसधान एवं विकास केंद्र की स्थापना की है और इस कदम को सुविधाजनक बनाने के लिए 60 मिलियन रूपये की मूल्य की 6 विभिन्न डोमेन परियोजनाओं की शुरुआत की है।


इसके अलावा, एसएआरएएस कंपनी के परिचालन क्षेत्र के आस-पास स्थानीय युवाओं के कौशल विकास की गुणवत्ता और रोजगार पर ध्‍यान देने के साथ-साथ अनुसंधान विकास को तकनीकी सहायता सुनिश्चित करने के लिए उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने में भी मदद करेगा। संसाधनों के अधिकतम उपयोग के लिए सामान्‍य तकनीकी मंचों के साथ परिचालन दक्षता और सभी पहलुओं को एकीकृत करने के लिए कंपनी के मौजूदा बुनियादी तकनीकी ढांचे में लगातार सुधार करना भी इस केन्‍द्र की स्‍थापना का उद्देश्य है।


एनसीएल के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री प्रभात कुमार सिन्हा को कोयला क्षेत्र में उत्पादकता, काम की गुणवत्ता और अन्य अनगिनत योगदानों में अपने महत्‍वपूर्ण योगदान के लिए इस सेमिनार में विश्‍व विज्ञान उत्‍पादकता में एक फैलो के रूप में भी चुना गया था।


 


भारत के कोयला उत्पादन में एनसीएल का 15 प्रतिशत और देश की तापीय बिजली उत्पादन में 10 प्रतिशत योगदान है जो भारत सरकार की इस मिनिरत्न कंपनी द्वारा उत्पादित कोयले से पूरा किया जाता है। कंपनी हर साल 100 मिलियन टन से अधिक कोयला का उत्पादन करती है। चालू वित्त वर्ष में इसने 107 मिलियन टन कोयले का उत्पादन करने की योजना बनाई है। श्री पी.के. सिन्हा ने यह जानकारी इस सेमीनार में उपस्थित नीति निर्माताओं, देश के थींक टेंक के समक्ष दी। इनकी प्रस्‍तुति में कोयला, विद्युत, इस्‍पात, एमएसएमई क्षेत्रों पर विशेष ध्‍यान केन्द्रित किया गया।


तेजी से बदलती प्रौद्योगिकी संचालित दुनिया के साथ, किसी उच्‍च प्रतिस्पर्धी माहौल में एक सफल संगठन के लिए नवाचार व्यापार रणनीति का एक अनिवार्य हिस्सा है और भविष्य की प्रगति की गति की पहचान करने में भी महत्वपूर्ण है। खनन क्षेत्र की वर्तमान और भविष्य की चुनौतियों के साथ अग्रिम तैयारी सुनिश्चित करने के लिए, एनसीएल एक विशिष्‍ट अवधारणा/मॉडल एसएआरएएस सपोर्ट के साथ सामने आ गया है और इसने प्रयोगशाला से औद्योगिक धरातल की ओर पंख फैलाये हैं।


एसएआरएएस में चार स्‍तंभ हैं-  (i) खानों में उत्पादन, उत्पादकता और सुरक्षा बढ़ाने के लिए नवाचार और अनुसंधान का एकीकरण, इसके लिए कंपनी ने आईआईटी (बीएचयू) के सहयोग से एक समर्पित अनुसंधान और विकास केंद्र की स्थापना की है जिसने पहले ही 6 विविध डोमेन परियोजनाएं शुरू की हैं, जिनकी लागत 60 मिलियन रूपये है। (ii)  कंपनी के परिचालन क्षेत्र में स्‍थानीय युवाओं के कौशल विकास की गुणवत्‍ता और रोजगार पर जोर देते हुए तकनीकी सहायता और अनुसंधान और विकास सुनिश्चित करने के लिए उत्‍कृष्‍टता केन्‍द्र की स्‍थापना, इस तरह की अन्‍य पहल में एनसीएल के पास एनसीएल-आईआईटी (बीएचयू) इन्‍क्‍यूवेशन केन्‍द्र है, जहां 21 नवोदित स्टार्टअप्‍स का पोषण हो रहा है। (iii) चालन दक्षता के लिए कंपनी के मौजूदा तकनीकी बुनियादी ढांचे में निरंतर सुधार, जहां इसकी प्रशिक्षण सुविधा और मेगा मरम्मत कार्यशालाओं का उन्नयन होगा और (iv) संसाधनों के अधिकतम उपयोग के लिए सामान्‍य तकनीकी प्‍लेटफार्म के साथ एसएआरएएस के तहत सभी पहलों को एकीकृत करना।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह