सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व सचिन पायलट के मध्य जारी सत्ता संघर्ष तेज हो सकता है। पायलट सत्ता संघर्ष के लिये ढाल ढाल तो गहलोत पत्ते पत्ते पर घूम रहे है।

 


                ।अशफाक कायमखानी।
जयपुर।

                 सचिन पायलट मुख्यमंत्री बनने के अपने 2018 मे पहले प्रयास मे सफल नही होकर उपमुख्यमंत्री बनने की हां करने के बाद एक साल पहले दुसरे प्रयास मे असफल रहने पर प्रदेश अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री का पद गवांने के बावजूद पुरा एक साल चूप रहने के बाद अब अचानक पायलट का हमलावर होना। कांग्रेस राजनीति मे अंदर ही अंदर बहुत कुछ पकना बताया जा रहा है। असल मे अब सचिन पायलट हाईकमान को उनके द्वारा ढाई ढाई साल मुख्यमंत्री रहने पर हुये समझौते को याद दिलाकर उनके द्वारा किये वादे को पूरा करवाना चाहते है।
               राजस्थान की राजनीति मे मुख्यमंत्री के रुप मे उदय होने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सचिन पायलट के रुप मे लूटीयंस जोंन की गलियों की हकीकत से वाकिफ वाले नेता के रुप मे पहला चेलेंज मिला है। इससे पहले 1998 के विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री बनने से लेकर अब तक गहलोत ने पार्टी के अंदर उपजे सभी चैलेंज को नेस्तानाबूद कर चुके है। गहलोत 2018 के विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री बनने को लेकर अभी तक अपने चैलेंज पायलट को राजनीतिक तौर पर घायल करके खुद मुख्यमंत्री तो बन गये एवं बने हुये है। लेकिन इस चेलेंज को अन्यो की तरह नेस्तानाबूद नही कर पाये है।
                राजनीतिक सूत्रोनुसार 2018 के विधानसभा चुनाव के पहले सचिन पायलट के मुख्यमंत्री बनने की चर्चा आम जबान पर थी। लेकिन चुनाव परिणाम बाद मुख्यमंत्री चयन के समय काफी कसमकस के बाद हाईकमान की मध्यस्थता से ढाई साल मै एवं ढाई साल तू का एक समझोता हुवा बताते। उसी समझोते को पायलट अब याद दिलाना चाहते है। वही अशोक गहलोत हर हाल मे पुरे पांच साल मुख्यमंत्री बने रहना चाहते है।
               प्रदेश अध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री पद से हटाये जाने के बाद भी पायलट पूरे एक साल चुप रहने के बाद गहलोत के ढाई साल पुरे होने का इंतजार यूही नही कर रहे थे। ढाई साल पुरे होते ही पायलट व उनके समर्थक अचानक हमलावर होने के राजनीतिक मायने जो दिख रहे है वो नही होकर वो है जो दिख व बोले नही जा रहे है।
            पायलट राजनीतिक तौर पर काफी चतुर माने जाते है। पर उनका पासा अभी तक पड़ा नही है। वो जनभावनाओं को अपनी तरफ खींचने के लिये कार्यकर्ताओं की सत्ता मे भागीदारी की बात उठा रहे है। पर वो भलीभांति समझते है कि राजनीति मे वफादारी स्थाई नही होती है। शुरुआत मे उदयलाल अंजना, प्रमोद भाया, प्रतापसिंह खाचरियावास सहित कुछ विधायकों को उन्होंने अपने कोटे मे मंत्री बनाया था। मौका आने पर उनको वफादारी बदलते देर नही लगीं। अब क्या गारंटी है कि फिर कुछ विधायकों को वो मंत्री बना देगे तो वो खाचरियावास जैसे कुछ मंत्रियों का अनुसरण नही करेंगे। यह सब पायलट भलीभांति समझते है।
            कुल मिलाकर यह है कि सदी मे पहली दफा कांग्रेस हाईकमान का इतना कमजोर होने को गहलोत अच्छे से समझते है। तभी गहलोत हाईकमान पर अपनी शर्तों पर दवाब बनाकर पायलट को सत्ता से दूर किये हुये है। जबकि पायलट भी ऐसे हालात को समझ रहे बताते। लेकिन वो अपना दाव चलने से बचना कतई नही चाहते है। वो हर मुमकिन हाईकमान को अपना वादा याद दिलाते रहना चाहते है। देखना होगा कि राजस्थान कांग्रेस की राजनीति का ऊंट किस करवट बैठता है। दिल्ली गये पायलट की मुलाकात अभी तक प्रियंका गांधी से नही हो पाई है। पायलट किसी तरह का राजनीतिक कदम उठाने से पहले प्रियंका गांधी से मिलकर अपनी बात उन तक पहुंचाना चाहते है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

       लखनऊ - लुलु मॉल में नमाज पढ़ने वाले लोगों की हुई पहचान। चार लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार। 9 में से 4 लोग को पुलिस ने किया गिरफ्तार। सीसीटीवी और सर्विलांस के जरिए उन तक पहुंची पुलिस। नमाज अदा करने वालों में मोहम्मद रेहान पुत्र मोहम्मद रिजवान निवासी खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर , लखनऊ। दूसरा आतिफ खान पुत्र मोहम्मद मतीन खान थाना मोहम्मदी जिला लखीमपुर मौजूदा पता खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। तीसरा मोहम्मद लुकमान पुत्र मनसूर अली मूल पता लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। मोहम्मद नोमान निवासी लहरपुर सीतापुर हाल पता अबरार नगर खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर लखनऊ। पकड़े गए चार लड़कों में सीतापुर के रहने वाले दोनों सगे भाई निकले। लखनऊ में एक ही मोहल्ले में रहने वाले चारों लड़कों ने  पढ़ी थी लुलु मॉल में एक साथ जाकर नमाज।    अबरार नगर, खुर्रम नगर थाना इंदिरा नगर के रहने वाले हैं चारों लड़के। सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस ने लूलू मॉल में बिना अनुमति नमाज पढ़ने वालों को किया गिरफ्तार।।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह