सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दिल्ली में 69 नव निर्वाचित विधायकों ने विधानसभा सदस्य के तौर पर शपथ ली

नयी दिल्ली,  ::  दिल्ली विधानसभा के सोमवार को शुरु हुए तीन दिवसीय सत्र के पहले दिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत 69 नवनिर्वाचित विधायकों ने सदन के सदस्य के तौर पर शपथ ली।


जनकपुरी से विधायक राजेश ऋषि सोमवार को शपथ ग्रहण नहीं कर सके क्योंकि वह शहर में नहीं थे और वह मंगलवार को शपथ ग्रहण करेंगे।


हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में जीत के बाद आम आदमी पार्टी ने तीसरी बार दिल्ली में सरकार बनाई है और चुनाव के बाद यह पहला सत्र है।


शपथ ग्रहण समारोह की शुरुआत में सबसे पहले केजरीवाल ने शपथ ग्रहण की जिसके बाद सिसोदिया, पर्यावरण मंत्री गोपाल राय, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत और अन्य विधायकों ने शपथ ली।


सातवीं दिल्ली विधानसभा के पहले दिन 61 सदस्यों ने हिंदी, तीन सदस्यों ने उर्दू, दो सदस्यों ने मैथिली और एक-एक सदस्य ने अंग्रेजी और पंजाबी में शपथ ग्रहण की।


ग्रेटर कैलाश से आप के विधायक सौरभ भारद्वाज और आप विधायक नरेश बाल्यान ने ‘बजरंग बली हनुमान’ के नाम पर शपथ ली और कई विधायकों ने मेज थपथपाते हुए ‘जय हनुमान’ का नारा लगाया।


भारद्वाज ने कहा कि जब वह ‘बजरंग बली हनुमान’ के नाम पर शपथ ग्रहण कर रहे थे, तब भाजपा विधायक अनिल कुमार बाजपेई ने आपत्ति जताई।


परंपरागत परिधान पहनकर आए विधायकों संजीव झा और रितु राज गोविंद ने मैथिली भाषा में शपथ ली।


अस्थाई विधानसभा अध्यक्ष नियुक्त किये गये मटिया महल के विधायक शोएब इकबाल ने शपथ ग्रहण की कार्यवाही का संचालन किया। बाद में, शाहदरा से विधायक राम निवास गोयल को लगातार दूसरी बार विधानसभा का सर्वसम्मति से अध्यक्ष चुना गया।


तिलक नगर से विधायक जरनैल सिंह ने पंजाबी में शपथ ग्रहण की। आप के विधायक राजेश गुप्ता ने अपने माता-पिता के नाम पर शपथ ग्रहण की। विधायक रोहित मेहरोलिया ने महर्षि वाल्मीकि ने नाम पर शपथ ली।


पहली बार विधायक चुने गए राघव चड्ढा, आतिशी मार्लेना और दिलीप पांडे ने भी विधानसभा सदस्य के तौर पर शपथ ग्रहण की।


इससे पहले सोमवार सुबह विधानसभा में विपक्ष के नेता चुने गये बदरपुर से भाजपा विधायक रामवीर सिंह बिधूड़ी शपथ ग्रहण करने के बाद इकबाल से गले मिले। बिधूड़ी और इकबाल सबसे पहले दिल्ली विधानसभा में 1993 में चुनकर आये थे।


आम आदमी पार्टी ने 70 सदस्यीय विधानसभा में 62 सीटें जीती थीं। इस चुनाव में भाजपा ने आठ सीटें जीती थी जबकि कांग्रेस खाता नहीं खोल पाई।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया

 आई.सी.एस.ई. तथा आई.एस.सी 2021 के घोषित हुए परीक्षा परिणामो में लखनऊ पब्लिक स्कूल ने पूरे जिले में अग्रणी स्थान बनाया। विद्यालय में इस सत्र में आई.सी.एस.ई. (कक्षा 10) तथा आई.एस.सी. (कक्षा 12) में कुल सम्मिलित छात्र-छात्राओं की संख्या क्रमशः 153 और 103 रही। विद्यालय का परीक्षाफल शत -प्रतिशत रहा। इस वर्ष कोरोना काल में परीक्षा परिणाम विगत पिछले परीक्षाओं के आकलन के आधार पर निर्धारित किए गए है ।  आई.सी.एस.ई. 2021 परीक्षा में स्वयं गर्ग ने 98% अंक लाकर प्रथम,  ऋषिका अग्रवाल  ने 97.6% अंक लाकर द्वितीय तथा वृंदा अग्रवाल ने 97.4% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   आई .एस.सी. 2021 परीक्षा में आयुष शर्मा  ने 98.5% अंक लाकर प्रथम, कुशाग्र पांडे ने 98.25% अंक लाकर द्वितीय तथा आरुषि अग्रवाल ने 97.75% अंक लाकर तृतीय स्थान प्राप्त किया।   उल्लेखनीय है कि आई.एस.सी. 2021 परीक्षा में इस वर्ष विद्यालय में 21 छात्रों ने तथा आई.सी.एस.ई.की परीक्षा में 48 छात्रों ने 90 प्रतिशत से भी अधिक अंक लाएं।   आई.सी.एस. 2021 परीक्षा में प्रथम आये आयुष शर्मा के पिता श्री श्याम जी शर्मा एक व्यापारी हैं । वह भविष्य में

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह